Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

जीवन साथी

जीवन के सफर में,
साथ मिला तुम्हारा।
घर में खुशियाँ आई,
चहके आँगन हमारा।।

जब से थामा हाथ,
जीवन पथ हुआ सरल।
हँसते हँसाते दिन बीते,
यादगार बने हर पल।।

इतना ही बस कहना,
ख़ुश रहें दुनिया हमारी।
होंठो पर रहें सदा मुस्कान,
यूँ ही अटूट रहें यह यारी।।

ईश्वर से करूँ प्रार्थना,
सर झुका जोड़ हाथ।
ख़ुश रखना प्रभु सदा,
आपके दर आए दोनों साथ।।

65 Views
You may also like:
सैनिक
AMRESH KUMAR VERMA
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
विदाई की घड़ी आ गई है,,,
Taj Mohammad
पिता
रिपुदमन झा "पिनाकी"
वापस लौट नहीं आना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
नैय्या की पतवार
DESH RAJ
बुद्धिमान बनाम बुद्धिजीवी
Shivkumar Bilagrami
हमने वफ़ा निभाई है।
Taj Mohammad
नाथूराम गोडसे
Anamika Singh
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
किसी के मेयार पर
Dr fauzia Naseem shad
कबीर साहेब की शिक्षाएं
vikash Kumar Nidan
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
तेरा जां निसार।
Taj Mohammad
मां ने।
Taj Mohammad
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
मजदूर की रोटी
AMRESH KUMAR VERMA
अंधेरी रातों से अपनी रौशनी पाई है।
Manisha Manjari
सिपाही
Buddha Prakash
✍️हम भी कुछ थे✍️
"अशांत" शेखर
✍️दहशत में है मजारे✍️
"अशांत" शेखर
आदर्श पिता
Sahil
लो अब निषादराज का भी रामलोक गमन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कहवां जाइं
Dhirendra Panchal
हक़ीक़त न पूछिए
Dr fauzia Naseem shad
कल कह सकता है वह ऐसा
gurudeenverma198
'पूरब की लाल किरन'
Godambari Negi
ये कैसा बेटी बाप का रिश्ता है?
Taj Mohammad
मन को मत हारने दो
जगदीश लववंशी
तीर ए नज़र से।
Taj Mohammad
Loading...