Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 13, 2021 · 1 min read

जीवन समर !

जीवन समर !
“””””””””””””””

बहुत डर लगता है मुझे !
इतना पता था किसे ?
कि महामारी आ जाएगी !
दुनिया ये उजड़ जाएगी !!

स्थिति बहुत ही विकराल है !
पर डरने की नहीं बात है !
बस, कुछ ही दिनों की तो बात है !
फिर ये वापस चली जाएगी !
फिर से दुनिया नई बस जाएगी !!

बस, थोड़ा संभल – संभलकर !
धैर्य व हिम्मत से मुकाबला कर !
सारे नियमों का पालन कर !
औरों की भी सहायता कर !
दम लेंगे हम इसे भगाकर !
अटूट एकता का परिचय देकर !!

अपने सब्र को बाॅंध के रख !
वैक्सीन से बचाव अपनी कर !
सरकार से भी सहयोग किया कर !
अनावश्यक नहीं इसे कोसा कर !!

ये है बहुत ही विकट परिस्थिति !
किसी एक के वश की बात नहीं !
सरकार अपना काम है कर रही !
आप ना करें कभी कोई लापरवाही !
खुद भी लेनी होगी कुछ जवाबदेही !!

अति सावधानी बरतें पर डरें नहीं !
बिना सोचे-समझे कुछ करें नहीं !
डाॅक्टरी सलाह लें संशय जो हो कोई !
इलाज़ में कोई कोताही करें नहीं !!

कोई जीवन जीता है तो कोई डराता ही है !
पर क्या ज्ञानी मानव कभी इससे घबराता है ?
कोई राह चलता है तो बाधाऍं उसे रोकती ही हैं !
पर क्या असली पथिक विचलित हो रुक जाता है??

पेड़ों में पुराने पत्ते झड़ते हैं, कितने नए लग जाते हैं !
जीवन समर में न जाने कितनी कहानियाॅं बन जाते हैं !
जीवन कोई खेल नहीं, बड़े खिलाड़ी यहाॅं पिट जाते हैं !
विनती करता अजित, चल नए सिरे से बगिया सजाते हैं !!

_ स्वरचित एवं मौलिक ।

© अजित कुमार कर्ण ।
__ किशनगंज ( बिहार )
“”””””””””””””””””””””””””””
????????

8 Likes · 2 Comments · 619 Views
You may also like:
क्यों कहाँ चल दिये
gurudeenverma198
.✍️आशियाना✍️
"अशांत" शेखर
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित ,...
Subhash Singhai
सास और बहु
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️ये जिंदगी कैसे नजर आती है✍️
"अशांत" शेखर
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
धरा करे मनुहार…
Rekha Drolia
जिज्ञासा
Rj Anand Prajapati
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
प्रेयसी
Dr. Sunita Singh
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
मैं कौन हूँ
Vikas Sharma'Shivaaya'
रक्षाबंधन गीत
Dr Archana Gupta
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सुकूं का प्यासा है।
Taj Mohammad
मेरा अक्स तो आब है।
Taj Mohammad
मेंढक और ऊँट
सूर्यकांत द्विवेदी
चल-चल रे मन
Anamika Singh
धरती से मिलने को बादल जब भी रोने लग गया।
सत्य कुमार प्रेमी
कोई हमारा ना हुआ।
Taj Mohammad
✍️✍️वहम✍️✍️
"अशांत" शेखर
ख्वाब रंगीला कोई बुना ही नहीं ।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
अब नही छल सकते हो
Anamika Singh
मुझको खुद मालूम नहीं
gurudeenverma198
मेरी तस्वीर
Dr fauzia Naseem shad
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
मेरा दिल हमेशा।
Taj Mohammad
ये नारी है नारी।
Taj Mohammad
Loading...