Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Aug 2022 · 2 min read

जीवन संगनी की विदाई

छोड़ कर जा रही हूं तुम्हें,मुझे याद मत करना।
जाना है सबको संसार से 1 दिन सबको मरना।।

जन्म हुआ है जिसका,मृत्यु भी उसकी एक दिन होगी।
ये क्रम चलता रहेगा,इसमे बदल कभी भी ना होगी।।

ले रही हूं विदाई तुमसे,अगले जन्म मिलना होगा।
सोच रही हूं मैं,ऐसा ही ये विधि का विधान होगा।

बेटी जब आए सुसराल से,उसे रोने कभी मत देना।
रो रो कर बेहोश हो जायेगी,उसे संभाल तुम लेना।।

तंग करना न बहू बेटो को अपना काम खुद करना।
रात को जब प्यास लगे,लोटा भर कर जल का रखना।।

चश्मा छड़ी मोबाइल अपने,नियत स्थान पर रखना।
मिले नही जब ये तुमको,शांतभाव तुम अपने रखना।।

आए जब कोई रिश्तेदार,बहु बेटे की बुराई मत करना।
शांत स्वर बनाकर तुम,उनकी आव भगत ही करना।।

मन करे किसी चीज का,किसी को कुछ नहीं कहना।
अपने मन को नियंत्रण करना,मन मसोस कर रखना।।

इस जीवन मे आपने,मेरा कहा कभी ना माना।
इस जिद्द को छोड़कर,अपना व्यवहार नम्र रखना।।

आपको है बी पी डायबटीज,मीठा कभी न खाना।
जाना पड़े किसी प्रोग्राम में,अपने घर से ख़ाके जाना।।

बेटा बहू कभी कुछ कहे,उनकी चुपचाप सुन लेना।
आए जब तुमको गुस्सा,अमृत की तरह तुम पी लेना।।

भूल जाना धीरे धीरे,मुझे याद कभी मत करना।
मेरे बिन जीने की,आदत जीवन में डाल लेना।।

उठो,सुबह हो गई है,अब तुमसे कोई नही कहेगा।
अपने आप ही उठ जाना,नखरे कोई नही सहेगा।।

ले लेना दवाई टाइम से,किसी को तंग मत तुम करना।
लेते समय दवाई अपनी,मुझको याद मत तुम करना।।

निभा न सकी वचन मै,साथ मरने जीने का।
माफ़ कर देना मुझको,न वचन पूरा करने का।।

पोते पोती के साथ खेलकर,जीवन व्यतीत करना।
अपने आप भी खुश रहना,औरों को भी खुश रखना।।

दुखी होने लगे जब बहू बेटे,कर लेना आश्रम प्रस्थान।
अंतिम समय शांति से बिताना,लेते रहते प्रभु का नाम।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
Tag: कविता
8 Likes · 15 Comments · 538 Views
You may also like:
जात पात
Harshvardhan "आवारा"
आया जो,वो आएगा
AMRESH KUMAR VERMA
बता दूँगा तुमको
gurudeenverma198
नहीं मिलती
Dr fauzia Naseem shad
मुख पर तेज़ आँखों में ज्वाला
Rekha Drolia
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
मोह....
Rakesh Bahanwal
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
*देखो गर्म पारा है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
*आधुनिक सॉनेट का अनुपम संग्रह है ‘एक समंदर गहरा भीतर’*
बिमल तिवारी आत्मबोध
एक टीस रह गई मन में
Shekhar Chandra Mitra
किताब।
Amber Srivastava
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मृत्युलोक में मोक्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कहो‌ नाम
Varun Singh Gautam
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
२४३. "आह! ये आहट"
MSW Sunil SainiCENA
उम्मीद की किरण
shabina. Naaz
रंग-ए-बाज़ार कर लिया खुद को
Ashok Ashq
व्यथा
Saraswati Bajpai
वो प्यार कैसा
Nitu Sah
उड़ी पतंग
Buddha Prakash
अब हमें तुम्हारी जरूरत नही
Anamika Singh
अब तो ज़ख्मो से रिश्ता पुराना हुआ....
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
గురువు
विजय कुमार 'विजय'
जीवन यात्रा
विजय कुमार अग्रवाल
मां महागौरी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
साँप का जहर जीवन भी देता है
राकेश कुमार राठौर
मुरली मनेहर कान्हा प्यारे
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...