Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 22, 2016 · 1 min read

जीवन लीला

जीवन – लीला रहे अधूरी सुख – दुख के संयोग बिना ..

प्रीति कहाँ हो पाती पूरी कुछ दिन विरह वियोग बिना..

खट्टे – मीठे सभी स्वाद से सजी गृहस्थी की थाली ..

पार कहाँ लगती है नैया आपस के सहयोग बिना ..

280 Views
You may also like:
सुमंगल कामना
Dr.sima
* उदासी *
Dr. Alpa H. Amin
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
खोकर के अपनो का विश्वास ।....(भाग - 3)
Buddha Prakash
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बद्दुआ।
Taj Mohammad
Security Guard
Buddha Prakash
बचपन की यादें
Anamika Singh
अपना लो मुझे अभी...
Dr. Alpa H. Amin
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग६]
Anamika Singh
उस दिन
Alok Saxena
रुक जा रे पवन रुक जा ।
Buddha Prakash
आस्था और भक्ति
Dr. Alpa H. Amin
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
Tnmy R Shandily
विश्व मजदूर दिवस पर दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आईने की तरह मैं तो बेजान हूँ
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
दोहावली-रूप का दंभ
asha0963
गर्दिशे जहाँ पा गये।
Taj Mohammad
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
मौत ने की हमसे साज़िश।
Taj Mohammad
चोरी चोरी छुपके छुपके
gurudeenverma198
ए- अनूठा- हयात ईश्वरी देन
AMRESH KUMAR VERMA
हम एक है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
श्री राधा मोहन चतुर्वेदी
Ravi Prakash
आध्यात्मिक गंगा स्नान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
लूटपातों की हयात
AMRESH KUMAR VERMA
कहाँ चले गए
Taran Verma
ये जज़्बात कहां से लाते हो।
Taj Mohammad
Loading...