Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2016 · 1 min read

जीवन लीला

जीवन – लीला रहे अधूरी सुख – दुख के संयोग बिना ..

प्रीति कहाँ हो पाती पूरी कुछ दिन विरह वियोग बिना..

खट्टे – मीठे सभी स्वाद से सजी गृहस्थी की थाली ..

पार कहाँ लगती है नैया आपस के सहयोग बिना ..

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
442 Views
You may also like:
Love Heart
Buddha Prakash
आओ मिलके पेड़ लगाए !
Naveen Kumar
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
कैसे जीने की फिर दुआ निकले
Dr fauzia Naseem shad
बारिश
मनोज कर्ण
माटी - गीत
Shiva Awasthi
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
लौह पुरुष सरदार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पुस्तक समीक्षा "छायावाद के गीति-काव्य"
दुष्यन्त 'बाबा'
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
साथ तुम्हारा
मोहन
सबको माफ़ कर दो
Shekhar Chandra Mitra
एक मुर्गी की दर्द भरी दास्तां
ओनिका सेतिया 'अनु '
उम्मीद मुझको यही है तुमसे
gurudeenverma198
प्यार -ए- इतिहास
Nishant prakhar
बाल मनोविज्ञान
Pakhi Jain
यथा प्रदीप्तं ज्वलनं.…..
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
" हसीन जुल्फें "
DESH RAJ
वादी ए भोपाल हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Savarnon ke liye Ambedkar bhasmasur.
Dr.sima
समय और मेहनत
Anamika Singh
# किताब ....
Chinta netam " मन "
*** " चिड़िया : घोंसला अब बनाऊँ कहाँ....??? " ***
VEDANTA PATEL
Tell the Birds.
Taj Mohammad
मस्ती( कुंडलिया)
Ravi Prakash
✍️मेरा साया छूकर गया✍️
'अशांत' शेखर
*!* अपनी यारी बेमिसाल *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सम्मान
Saraswati Bajpai
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
Loading...