Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#10 Trending Author
Jul 16, 2022 · 1 min read

जीवन में

जीवन में व्यतीत हुए
कुछ क्षण विशेष थे ।
लिखने से रह गये
कुछ पन्ने शेष थे ।।
मन से विरक्त थे
कुछ हममें शेष थे
बरसे जो आंखों से
वो मन के मेष थे ।
यादों की आंच से
पिधला हुआ ये मन ।
समझे न हम जिसे
वो मन के द्वेष थे ।
एकान्त में स्वयं को
विचारा नहीं कभी ।
जीवन में कितने हम
हासिल-विशेष थे ।

डॉ फौज़िया नसीम शाद

5 Likes · 33 Views
You may also like:
💐 ग़ुरूर मिट जाएगा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धुँध
Rekha Drolia
#आर्या को जन्मदिन की बधाई#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
सागर
Vikas Sharma'Shivaaya'
नाम लेकर भुला रहा है
Vindhya Prakash Mishra
ना पूंछ तू हिम्मत।
Taj Mohammad
तुमसे इश्क कर रहे हैं।
Taj Mohammad
भारतवर्ष
Utsav Kumar Aarya
saliqe se hawaon mein jo khushbu ghol sakte hain
Muhammad Asif Ali
When I missed you.
Taj Mohammad
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
गर्भस्थ बेटी की पुकार
Dr Meenu Poonia
कितनी पीड़ा कितने भागीरथी
सूर्यकांत द्विवेदी
सावन का महीना है भरतार
Ram Krishan Rastogi
तुम गैर कबसे हो गए ?...
ओनिका सेतिया 'अनु '
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
एक मंज़िल हमें मिले कैसे
Dr fauzia Naseem shad
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
कैसी तेरी खुदगर्जी है
Kavita Chouhan
"Happy National Brother's Day"
Lohit Tamta
BADA LADKA
Prasanjeetsharma065
नैतिकता और सेक्स संतुष्टि का रिलेशनशिप क्या है ?
Deepak Kohli
बाज़ी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ये जिंदगी एक उलझी पहेली
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
हमारे जीवन में "पिता" का साया
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
✍️आरसे✍️
"अशांत" शेखर
Accept the mistake
Buddha Prakash
अब ज़िन्दगी ना हंसती है।
Taj Mohammad
कोई रिश्ता मुझे
Dr fauzia Naseem shad
Loading...