Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2022 · 1 min read

जीवन में

जीवन में व्यतीत हुए
कुछ क्षण विशेष थे ।
लिखने से रह गये
कुछ पन्ने शेष थे ।।
मन से विरक्त थे
कुछ हममें शेष थे
बरसे जो आंखों से
वो मन के मेष थे ।
यादों की आंच से
पिधला हुआ ये मन ।
समझे न हम जिसे
वो मन के द्वेष थे ।
एकान्त में स्वयं को
विचारा नहीं कभी ।
जीवन में कितने हम
हासिल-विशेष थे ।

डॉ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: कविता
9 Likes · 195 Views
You may also like:
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
ਆਹਟ
विनोद सिल्ला
नजदीक
जय लगन कुमार हैप्पी
*!* सोच नहीं कमजोर है तू *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
नया पड़ाव।
Kanchan sarda Malu
जिंदगी के अनमोल मोती
AMRESH KUMAR VERMA
🍀🌺प्रेम की राह पर-43🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मौत
Alok Saxena
किसने क्या किया
Dr fauzia Naseem shad
करोड़ों वाले लड़ते( कुंडलिया)
Ravi Prakash
बुंदेली दोहा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
घर आंगन
शेख़ जाफ़र खान
" भयंकर यात्रा "
DrLakshman Jha Parimal
वेदना जब विरह की...
अश्क चिरैयाकोटी
जब तुम
shabina. Naaz
चौबोला छंद (बड़ा उल्लाला) एवं विधाएँ
Subhash Singhai
रिमोट :: वोट
DESH RAJ
मेरे सपने
सूर्यकांत द्विवेदी
संताप
ओनिका सेतिया 'अनु '
उड़ता लेवे तीर
Sadanand Kumar
जग के पालनहार
Neha
मिलन याद यह रखना
gurudeenverma198
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
देश हे अपना
Swami Ganganiya
*खुशियों का दीपोत्सव आया* 
Deepak Kumar Tyagi
युद्ध के उन्माद में है
Shivkumar Bilagrami
ये दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
Ram Krishan Rastogi
अंधे का बेटा अंधा
AJAY AMITABH SUMAN
✍️जिंदगी क्या है...✍️
'अशांत' शेखर
Loading...