Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 25, 2022 · 1 min read

जीवन दायिनी मां गंगा।

जीवन दायिनी,
दुःख हरनी गंगा है…!!!
जो ह्रदय से कहलाती…
सबकी मां है…!!!

शिव शंकर,
शभूँ की जटा से निकली है…!!!
प्रत्येक जीवन में…
जो सुख समृद्धि भर है…!!!

आगे आगे,
भागीरथी के पदचाप है…!!!
पीछे पीछे देखो…
मां गंगा का प्रवाह है…!!!

कल कल करती हुई,
वह अविरल बहती है…!!!
पर्वतों चट्टानों का सीना चीर,
वह पृथ्वी पर आती है…!!!

यमुना सरस्वती से,
मां गंगा जब मिलती है…!!!
तब प्रयागराज में देखो…
वह संगम बन जाती है…!!!

संगम में स्नान करके…
आत्मा तृप्त हो जाती है…!!!
अंता करण से सबको…
मोक्ष प्राप्ति हो जाती है…!!!

मां गंगा अपने जल से,
शुद्धिकरण करती है…!!!
कुछ ही बूंद के सेवन से,
वह मुक्तिकरण करती है…!!!

हे मानव मां गंगा को,
दूषित करना पाप है…!!!
अंत समय में मां गंगा ही,
जीवन मुक्ति का मार्ग है…!!!

ताज मोहम्मद
लखनऊ

1 Like · 61 Views
You may also like:
गुनाह ए इश्क।
Taj Mohammad
पुराने खत
sangeeta beniwal
अत्याचार
AMRESH KUMAR VERMA
ये दुनियां पूंछती है।
Taj Mohammad
बंजारों का।
Taj Mohammad
बे-इंतिहा मोहब्बत करते हैं तुमसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
# पर_सनम_तुझे_क्या
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
अशिक्षा
AMRESH KUMAR VERMA
*कृष्ण जैसा मित्र होना चाहिए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
करते है प्यार कितना ,ये बता सकते नही हम
Ram Krishan Rastogi
मेरी तडपन अब और न बढ़ाओ
Ram Krishan Rastogi
खुद के बारें में
Dr fauzia Naseem shad
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
Even If I Ever Died
Manisha Manjari
ममता
Rashmi Sanjay
रिश्तों की कसौटी
VINOD KUMAR CHAUHAN
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
Pt. Brajesh Kumar Nayak
” हृदय से ना जुड़ सके तो मित्र कैसे रह...
DrLakshman Jha Parimal
मैं आखिरी सफर पे हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
कविता: देश की गंदगी
Deepak Kohli
✍️एक तारा आसमाँ से टूटा था✍️
'अशांत' शेखर
✍️झूठा सच✍️
'अशांत' शेखर
💐💐सत्संगस्य महत्वम्💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️✍️धूल✍️✍️
'अशांत' शेखर
हर फौजी की कहानी
Dalveer Singh
जीएं हर पल को
Dr fauzia Naseem shad
आंख ऊपर न उठी...
Shivkumar Bilagrami
“ WHAT YOUR PARENTS THINK ABOUT YOU ? “
DrLakshman Jha Parimal
Loading...