Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

जीवन क्षणभंगुर

आया है तो , जाएगा जरूर ।
जीवन तो है यारा, क्षणभंगुर।
कौन जाने मौत कहां, कितनी दूर ?
जीवन तो है यारा , क्षणभंगुर ।

क्या है सपना ?क्या है अपना ?
सोचो तो , कुछ भी नहीं है ।
कल पास था जो, आज ना ।
सोचो तो , कुछ ना सही है ।
ये जाने सारी बातें, फिर भी मजबूर।
जीवन तो है यारा ,क्षणभंगुर ।।1

जब तक जिया ,नाना कर्म किया।
मानकर सदा जैसे , यही पे रहेंगे।
अंधेरा सच्चाई दिखे, बुझे जब दीया।
जानकर अंधेरे से,फिर क्यों डरेंगे ?
ढूंढे आंखें, रोशनी मांगे,दीवाना बेकसूर ।
जीवन तो है यारा, क्षणभंगुर।।2
(मनीभाई)

976 Views
You may also like:
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
मेरे पापा
Anamika Singh
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
Loading...