Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2022 · 1 min read

जीवन की प्रक्रिया में

जीवन की प्रक्रिया में
कैसी सम्पूर्णता ।।
भाति है मुझको खुद में
थोड़ी अपूर्णता ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
9 Likes · 2 Comments · 147 Views
You may also like:
मैं समंदर के उस पार था
Dalveer Singh
आत्महत्या क्यों ?
Anamika Singh
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
अभी अभी की बात है
कवि दीपक बवेजा
💐💐प्रेम की राह पर-62💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मां सरस्वती
AMRESH KUMAR VERMA
*शस्त्रधारी हैं (गीतिका)*
Ravi Prakash
नियति से प्रतिकार लो
Saraswati Bajpai
मुहब्बत और जंग
shabina. Naaz
श्रमिक जो हूँ मैं तो...
मनोज कर्ण
विधाता
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
✍️वो भुला क्यूँ है✍️
'अशांत' शेखर
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
GOD YOU are merciful.
Taj Mohammad
अब हार भी हारेगा।
Chaurasia Kundan
गँवईयत अच्छी लगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
इन्सान
Seema 'Tu hai na'
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सदा बढता है,वह 'नायक', अमल बन ताज ठुकराता|
Pt. Brajesh Kumar Nayak
उपहार
विजय कुमार अग्रवाल
[ कुण्डलिया]
शेख़ जाफ़र खान
# पर_सनम_तुझे_क्या
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
वसंत बहार
Shyam Sundar Subramanian
सबको दुनियां और मंजिल से मिलाता है पिता।
सत्य कुमार प्रेमी
वो चाहता है उसे मैं भी लाजवाब कहूँ
Anis Shah
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
जमीन की भूख
Rajesh Rajesh
पिता
Arvind trivedi
आत्म ग्लानि
Shekhar Chandra Mitra
लिहाज़
पंकज कुमार कर्ण
Loading...