Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 4, 2021 · 1 min read

जीवन की अवस्थाएँ…

शैशवावस्था की हँसी,
देख दौड़े सभी,
कोई चाहे गोद में उठाना,
तो कोई प्यार से सहलाना ।
बाल्यवस्था की शरारतें ,
जिससे आए दिन आए शिकायतें ।
माँ-बाप का दुर्भर जीना,
हर दिन का यहीं है रोना ।
बच्चें पर डाँट-फटकार का कोई असर न होना ।
किशोरावस्था की मस्ती,
मित्रों की नई कश्ती ।
दिमाग में गहराता विचारों का घमासान,
जिसमें मिलता है कुछ को ही आसमान ।
युवावस्था का प्यार,
अच्छे-अच्छों को करें बेकार ।
हर दिन रोज़गार की तलाश ,
न मिलने पर करें उसे हताश ।
प्रौढ़ावस्था की सफ़ेदी,
दे उसे मुस्तैदी ।
रफ्तार भरी जिंदगी,
करें वो ईश्वर से बंदगी ।
जीवन का अंतिम पड़ाव,
रखें अपनों से जुड़ाव ।
प्राण पखेरू उड़ने से पहले ,
माँगे कुछ क्षण का लगाव ।

-मीनू यादव*

1 Like · 1 Comment · 220 Views
You may also like:
विश्व पृथ्वी दिवस
Dr Archana Gupta
शोहरत और बंदर
सूर्यकांत द्विवेदी
नीड़ फिर सजाना है
Saraswati Bajpai
कृपा कर दो ईश्वर
Anamika Singh
करो नहीं व्यर्थ तुम,यह पानी
gurudeenverma198
गांव का भोलापन ना रह गया है।
Taj Mohammad
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरे पापा
Anamika Singh
""वक्त ""
Ray's Gupta
** भावप्रतिभाव **
Dr.Alpa Amin
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️शान से रहते है✍️
"अशांत" शेखर
मेरे पिता से बेहतर कोई नहीं
Manu Vashistha
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
गुरु की महिमा पर कुछ दोहे
Ram Krishan Rastogi
उसकी सांसों में जान
Dr fauzia Naseem shad
लौट आते तो
Dr fauzia Naseem shad
धुआं उठा है कही,लगी है आग तो कही
Ram Krishan Rastogi
आईना और वक्त
बिमल
शादी से पहले और शादी के बाद
gurudeenverma198
समझ में आयेगी
Dr fauzia Naseem shad
ज़माना कहता है हर बात ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
सुख दुख
Rakesh Pathak Kathara
हर दिन इसी तरह
gurudeenverma198
कंकाल
Harshvardhan "आवारा"
ग़र वो है बेवफ़ा बेवफ़ा ही सही
Mahesh Ojha
मैं ही बेगूसराय
Varun Singh Gautam
"महेनत की रोटी"
Dr.Alpa Amin
💐कलेजा फट क्यूँ नहीँ गया💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गर्दिशों की जिन्दगी है।
Taj Mohammad
Loading...