Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2022 · 1 min read

आनंद अपरम्पार मिला

पूरब में जब उदय हुआ,
मांँ-बाबा का लाड़ मिला,
दादी मांँ का दुलार मिला,
भाई-बहन का प्यार मिला,
बड़े-बूढ़ों का आशीर्वाद औ
बन्धु-बांधव का साथ मिला।
शिक्षकगण का सर पर हाथ
फिर ऊंँचा आकाश मिला,
चकाचौंध की दुनियांँ में,
हवाई किला आवास मिला,
सुख-सागर की तलाश में,
कंटकाकीर्ण सरताज मिला।
अग्रसर हूंँ जीवन-पथ पर,
रोड़ा बारम्बार मिला,
आत्मसंतुष्ट हूंँ निज कर्म से,
प्रश्नों का बौछार मिला,
मूक बना कर्त्तव्यबोधवश,
आशंका का गुबार मिला।
अब पश्चिम की ओर मुखातिब,
आत्मज्ञान अपार मिला,
खेतों और खलिहानों में,
गौओं को नहलाने में,
बछड़ों को दुग्ध पिलाने में,
आनंद अपरम्पार मिला।

मौलिक व स्वरचित
©® श्री रमण
बेगूसराय (बिहार)

Language: Hindi
Tag: कविता
7 Likes · 12 Comments · 252 Views
You may also like:
दौर।
Taj Mohammad
पर्यावरण
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️इँसा और परिंदे✍️
'अशांत' शेखर
शहीद रामचन्द्र विद्यार्थी
Jatashankar Prajapati
पैसा बोलता है...
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
संगीतमय गौ कथा (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
एहसास-ए-हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
अप्रैल-फूल दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आधुनिकता के इस दौर में संस्कृति से समझौता क्यों
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
” READING IS ESSENTIAL FOR KNOWLEDGE “
DrLakshman Jha Parimal
जिंदगी ये नहीं जिंदगी से वो थी
Abhishek Upadhyay
अश्रुपात्र A glass of years भाग 8
Dr. Meenakshi Sharma
कॉर्पोरेट जगत और पॉलिटिक्स
AJAY AMITABH SUMAN
मुहब्बत
Buddha Prakash
गणेश है हम सबके प्यारे
Kavita Chouhan
पारिवारिक बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
हाँ, अब मैं ऐसा ही हूँ
gurudeenverma198
:::: हवा ::::
MSW Sunil SainiCENA
मुस्कुराना कहा आसान है
Anamika Singh
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
कृष्ण भक्ति
लक्ष्मी सिंह
धम्म चक्र प्रवर्तन
Shekhar Chandra Mitra
चिड़िया और जाल
DESH RAJ
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD KUMAR CHAUHAN
Writing Challenge- दोस्ती (Friendship)
Sahityapedia
मैं बेचैन हो जाऊं
Dr fauzia Naseem shad
वो कहते हैं ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
💐💐शरणागतस्य सर्वाणि कार्याणि परमात्मना भवन्ति💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...