Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
Apr 29, 2022 · 2 min read

जीवन इनका भी है

बैठ जाती हूँ मैं जमीं पर
थक हारकर उस समय ,
जब नन्हें हाथों को देखती हूँ
हाथ फैलाएं भीख मांगते हुए ,
दर – बदर , दर – बदर।

सोचती हूँ जीवन इनका भी है ,
जो अभी ठीक से जमीं पर खड़ा भी न हुए है,
और भागने लगे पेट पालने के लिए,
इधर – उधर , इधर – उधर।

ठीक से भोजन भी इन्हें कहाँ नसीब होता है ।
कहाँ इनके तन पर कोई कपड़ा भी होता है।
नंगे पाँव ही भागते रहते है ,
यहाँ – वहाँ , यहाँ-वहाँ।

गर्मी भले ही इनको तपाती हो।
बरसात भले ही इन्हें भिगाती हो ।
भले ही ठंड इन्हें ठिठुड़ाती हो।
पर इनके कदम कहाँ रूकते हैं,
अपना पेट पालने के लिए ये
भागते, भागते और भागते ही रहते हैं।

किसी ने चंद सिक्के क्या दे दिये!
किसी से कुछ खाने का
सामान क्या मिल गया,
इनके चेहरे पर मुस्कान खिल जाता है,
ऐसे मानो उनको जन्नत मिल गया हो ।

इनको जब छोटे-मोटे खिलोने या
गुब्बारा बेचते हुए देखती हूँ तो,
एहसास होता की सब्र किस कहते हैं।
जो खिलोने से खेलने की इच्छा को,
मारकर खिलोने को बेचते है।

आते जाते न जाने कितनों की,
नजरें उन पर पड़ती है ।
पर कितने है जो उनका दर्द बाँटते हैं।
या चंद समय स्ककर उनकी
बात सुन लेते।

लेकिन एक दिन ये बच्चे भी समय से लड़ते हुए ,
अपने को मजबूत बना ही लेते हैं।
जीवन ये भी जी ही लेते है।
रोज संघर्ष करते है पर हार नहीं मानते है।

खुली आसमान को छत बनाते है,
और धरती को बिछावन,
जहाँ जगह मिल जाए ,वही सो लेते है
अफसोस इस बात का है हमें की
हम इनको भर पेट भोजन भी नही दे पाते है।

काश हम कुछ ऐसा कर पाते
इनका बचपन इन्हें जीने देते।
पेट भर भोजन और हाथ मै किताब दे पाते।
इनका बचपन इनको लोटा पाते।
काश इनका जीवन भी हम आम
बच्चों की तरह ही कर पाते ।
इनके जीवन को भी हम सँवार पाते।

~अनामिका

4 Likes · 2 Comments · 93 Views
You may also like:
✍️अजनबी की तरह...!✍️
"अशांत" शेखर
बुद्ध पूर्णिमा पर तीन मुक्तक।
Anamika Singh
शायरी ने बर्बाद कर दिया |
Dheerendra Panchal
🌺🌺प्रेम की राह पर-47🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरा ना कोई नसीब है।
Taj Mohammad
!?! सावधान कोरोना स्लोगन !?!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
इंद्रधनुष
Arjun Chauhan
निभाता चला गया
वीर कुमार जैन 'अकेला'
*अंतिम प्रणाम ..अलविदा #डॉ_अशोक_कुमार_गुप्ता* (संस्मरण)
Ravi Prakash
कामयाबी
डी. के. निवातिया
बेजुबान
Anamika Singh
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
बस इतनी सी ख्वाईश
"अशांत" शेखर
काँच के रिश्ते ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
✍️"बारिश भी अक्सर भुख छीन लेती है"✍️
"अशांत" शेखर
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग८]
Anamika Singh
सच समझ बैठी दिल्लगी को यहाँ।
ananya rai parashar
दुर्गावती:अमर्त्य विरांगना
दीपक झा रुद्रा
तुम जिंदगी जीते हो।
Taj Mohammad
ठंडे पड़ चुके ये रिश्ते।
Manisha Manjari
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
✍️दिल बहल जाता है।✍️
"अशांत" शेखर
🌺🍀सुखं इच्छाकर्तारं कदापि शान्ति: न मिलति🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पानी की कहानी, मेरी जुबानी
Anamika Singh
फिर से खो गया है।
Taj Mohammad
जीने की वजह तो दे
Saraswati Bajpai
मौसम बदल रहा है
Anamika Singh
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
सम्मान की निर्वस्त्रता
Manisha Manjari
Loading...