Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

जीने की वजह

मुट्ठी भर लम्हातों का सिलसिला है ज़िन्दगी
कुछ हसीन लम्हों की तलाश में हम जिए जा रहे हैं,
कुछ नहीं है हमारा जिसको अपना कह सकें,
बस एक ख़ुशी की तलाश में जिए जा रहे हैं,
अब हम क्या दिखाएं अपने जख्म ज़माने को,
जो हमने अपने ख्वाबों को सजाने में खाए हैं,
फिर भी हर रोज हम एक नया ख्वाब सजा रहे हैं,
कुछ हसीन लम्हों की तलाश में हम जिए जा रहे हैं
दो पल की हँसी को तरस गए हैं होंठ हमारे,
हँसी पर हमारी क़ातिल होने की इल्जाम आये हैं,
हमारी हालत पर दुनिया वाले हँसे जा रहे हैं,
कुछ हसीन लम्हों की तलाश में हम जिए जा रहे हैं
एक मुद्दत से हमें मुस्कुराते नहीं देखा किसी ने,
ज़माने ने हमारे मुस्कुराने पर भी पहरे बिठाये हैं,
रंगहीन हो चली हैं राहें हमारी ज़िन्दगी की,
ज़िन्दगी को रंगीन बनाने की खातिर जिये जा रहे हैं,
कुछ हसीन लम्हों की तलाश में हम जिए जा रहे हैं
हर एक कदम सोच समझ कर ही उठाना है,
हमारे पग पग पर ईश्वर ने कांटे बिछाये हैं ,
हर जन को खुशियाँ ही बांटना चाहते थे हम,
खुशियाँ बांटने की भी क्या खूब सजा पायी है,
न जाने कब अपनी ही खुशियाँ गँवा आये हैं ,
सबके लिए अपने ही दिल को छलनी किये जा रहे हैं,
कुछ हसीन लम्हों की तलाश में हम जिए जा रहे हैं
ईश्वर ने भी हमको असफलताओं से ही रूबरू कराया,
हम बस भाग्य के खिलाफ जंग ही लड़ते जा रहे हैं,
कुछ हसीन लम्हों की तलाश में हम जिए जा रहे हैं

“सन्दीप कुमार”

186 Views
You may also like:
पनघट और मरघट में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आकर मेरे ख्वाबों में, पर वे कहते कुछ नहीं
Ram Krishan Rastogi
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार "कर्ण"
✍️"सूरज"और "पिता"✍️
"अशांत" शेखर
कौन थाम लेता है ?
DESH RAJ
कभी सोचा ना था मैंने मोहब्बत में ये मंजर भी...
Krishan Singh
💐💐प्रेम की राह पर-17💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*श्री प्रदीप कुमार बंसल उर्फ मुन्ना बंसल की याद*
Ravi Prakash
ज़रा सामने बैठो।
Taj Mohammad
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
नेताओं के घर भी बुलडोजर चल जाए
Dr. Kishan Karigar
हौसलों की उड़ान।
Taj Mohammad
पिता पच्चीसी दोहावली
Subhash Singhai
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
वतन से यारी....
Dr. Alpa H. Amin
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
हमलोग
Dr.sima
मेरे खुदा की खुदाई।
Taj Mohammad
मै जलियांवाला बाग बोल रहा हूं
Ram Krishan Rastogi
कौन मरेगा बाज़ी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शिक्षा संग यदि हुनर हो...
मनोज कर्ण
सद्आत्मा शिवाला
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
जीवन दायिनी मां गंगा।
Taj Mohammad
जिन्दगी खर्च हो रही है।
Taj Mohammad
हम भी हैं महफ़िल में।
Taj Mohammad
मां
Dr. Rajeev Jain
रात चांदनी का महताब लगता है।
Taj Mohammad
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
Tnmy R Shandily
Loading...