Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2020 · 1 min read

जीने की कला

हार नहीं मानी कभी , जीती है हर जंग।
तेज़ हवाएँ भी चली , उड़ती रही पतंग।।

सुख – दुख का संगम कहूँ , इस जीवन को मीत।
धूप मिले या छाँव हो , गा मस्ती के गीत।।

आशा ही उत्साह दे , सच्ची इसकी प्रीत।
जैसे सुर के मेल से , मधुर बने हर गीत।।

शब्द – शब्द में है छिपा , मद आनंद अपार।
मानव तू बस सीख ले , शब्दों का व्यवहार।।

कण – कण में सौंदर्य है , करनी है पहचान।
मिट्टी में ज्यों जल गिरे , सौंधेपन का भान।।

इंद्रधनुष के रंग हैं , समझो मत तुम भार।
मस्ती प्रेम लिए चलो , जीवन गंगा धार।।

प्रीतम हँसना सीखिए , सौ की इक ही बात।
चैन पड़े ना शत्रु को , सोचेगा दिन रात।।

?आर.एस.प्रीतम?
नोट – सुरक्षित रहो , घर में रहो।

Language: Hindi
Tag: दोहा
2 Likes · 2 Comments · 439 Views

Books from आर.एस. 'प्रीतम'

You may also like:
जिस तरह फूल अपनी खुशबू नहीं छोड सकता
जिस तरह फूल अपनी खुशबू नहीं छोड सकता
shabina. Naaz
"नवसंवत्सर सबको शुभ हो..!"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
टूटती नींद जैसे आंखों में
टूटती नींद जैसे आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
हे ईश्वर
हे ईश्वर
Ashwani Kumar Jaiswal
कुछ वक्त के लिए
कुछ वक्त के लिए
Surinder blackpen
हम दुआएं हर दिल को देते है।
हम दुआएं हर दिल को देते है।
Taj Mohammad
" राज सा पति "
Dr Meenu Poonia
लीकछोड़ ग़ज़ल
लीकछोड़ ग़ज़ल
Dr MusafiR BaithA
भोजपुरी बिरह गीत
भोजपुरी बिरह गीत
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
अंतर दीप जले ?
अंतर दीप जले ?
मनोज कर्ण
हम कलियुग के प्राणी हैं/Ham kaliyug ke prani Hain
हम कलियुग के प्राणी हैं/Ham kaliyug ke prani Hain
Shivraj Anand
ज़मज़म देर तक नहीं रहता
ज़मज़म देर तक नहीं रहता
Dr. Sunita Singh
वतन के रखवाले
वतन के रखवाले
Shekhar Chandra Mitra
डेली पैसिंजर
डेली पैसिंजर
Arvina
स्थायित्व (Stability)
स्थायित्व (Stability)
Shyam Pandey
सुप्रभातं
सुप्रभातं
Dr Archana Gupta
करोगे याद मुझको मगर
करोगे याद मुझको मगर
gurudeenverma198
समुद्र हैं बेहाल
समुद्र हैं बेहाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
I want to find you in my depth,
I want to find you in my depth,
Sakshi Tripathi
कितना ठंडा है नदी का पानी लेकिन
कितना ठंडा है नदी का पानी लेकिन
कवि दीपक बवेजा
"पैसा"
Dr. Kishan tandon kranti
■ एक विचार
■ एक विचार
*Author प्रणय प्रभात*
असर-ए-इश्क़ कुछ यूँ है सनम,
असर-ए-इश्क़ कुछ यूँ है सनम,
Amber Srivastava
✍️'रामराज्य'
✍️'रामराज्य'
'अशांत' शेखर
एक - एक दिन करके यूं ही
एक - एक दिन करके यूं ही
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इश्क़ इबादत
इश्क़ इबादत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*धनवानों का काव्य - गुरु बनना आसान नहीं होता*
*धनवानों का काव्य - गुरु बनना आसान नहीं होता*
Ravi Prakash
मक़रूज़ हूँ मैं
मक़रूज़ हूँ मैं
Satish Srijan
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तुम दोषी हो?
तुम दोषी हो?
Dr. Girish Chandra Agarwal
Loading...