Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

जीना मुश्किल

मन के पंछी बिछड़ जाए तो, जीना मुश्किल होता है।
आंखों में आंसू आए तो, पीना मुश्किल होता है।
कैसा है दुर्योग यहां पर, कैसे मैं सह पाऊंगा
तेरी यादों में रह रहकर ,जीना मुश्किल होता है।
प्यार, वफ़ा, उम्मीद, भरोसा दूर नजर अब आते हैं।
चाक जिगर के इतने बढ़ गए, सीना मुश्किल होता है।
मेरे पागलपन की सीमा, इस कदर तड़पाती है।
अंदर बाहर खालीपन की, व्यथा भी बढ़ती जाती है।
खोने का डर लगता है और जीना मुश्किल होता है।
मन के पंछी बिछड़ जाए तो………………………..।

2 Likes · 53 Views
You may also like:
बचपन भी कहीं खो गया है।
Taj Mohammad
दर्द की चादर ओढ़ कर।
Taj Mohammad
मिलेंगे लोग कुछ ऐसे गले हॅंसकर लगाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
सेमल के वृक्ष...!
मनोज कर्ण
*** वीरता
Prabhavari Jha
गीतायाः पठनं मननं वा प्रभाव:
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
पिता
Surabhi bharati
जो देखें उसमें
Dr.sima
✍️खरा सोना✍️
"अशांत" शेखर
रिश्तों की कसौटी
VINOD KUMAR CHAUHAN
माँ की याद
Meenakshi Nagar
सुरत और सिरत
Anamika Singh
जुल्म
AMRESH KUMAR VERMA
मेरी ईद करा दो।
Taj Mohammad
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
बदल गए अन्दाज़।
Taj Mohammad
कर्ण और दुर्योधन की पहली मुलाकात
AJAY AMITABH SUMAN
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️दफ़न हो गया✍️
"अशांत" शेखर
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
हिम्मत न हारों
Anamika Singh
सावन के काले बादल औ'र बदलियां ग़ज़ल में।
सत्य कुमार प्रेमी
" PILLARS OF FRIENDSHIP "
DrLakshman Jha Parimal
इतना न कर प्यार बावरी
Rashmi Sanjay
*जन्मा पाकिस्तान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कोई रिश्ता मुझे
Dr fauzia Naseem shad
बहुत घूमा हूं।
Taj Mohammad
✍️अज़ीब इत्तेफ़ाक है✍️
"अशांत" शेखर
Loading...