Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 12, 2017 · 1 min read

जीना नहीं तेरे बिना

जब से साथ तुम्हारा पाया जब से तुम्हें पहचाना।
तुमने मुझे सिखाया किसे कहते हैं साथ निभाना।।
दुख की परछाई हो या हो मुसीबतों के अंधेरे।
इनसे पहले ही आ जाते तुम्हारे सहारों के घेरे।।
पल पल का यह अपनापन मुझको देता है जीवन।
साथ तुम्हारा मांगे मेरी हर सांस की आवन-जावन।।
मेरी उमर भी लग जाए तुमको छूने न पाएं बलाएं।
हर क्षण हर पल मेरा दिल देता है तुमको दुआएं।।

—रंजना माथुर दिनांक 28/02/2015
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

253 Views
You may also like:
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
बाबू जी
Anoop Sonsi
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
बुआ आई
राजेश 'ललित'
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
समय ।
Kanchan sarda Malu
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पल
sangeeta beniwal
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
प्यार की तड़प
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
Loading...