Sep 1, 2016 · 1 min read

जीत

इक लंबा अरसा बीत गया,
यादों का बादल रीत गया,
बाजी थी उनको पाने की,
रेखा रक़ीब ही जीत गया।

131 Views
You may also like:
💐प्रेम की राह पर-28💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे दिल को जख्मी तेरी यादों ने बार बार किया
Krishan Singh
पिता
pradeep nagarwal
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
बहन का जन्मदिन
Khushboo Khatoon
जाने कैसी कैद
Saraswati Bajpai
फिजूल।
Taj Mohammad
प्रेम की पींग बढ़ाओ जरा धीरे धीरे
Ram Krishan Rastogi
बाबूजी! आती याद
श्री रमण
मजदूर हूॅं साहब
Deepak Kohli
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
दो बिल्लियों की लड़ाई (हास्य कविता)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सम्भव कैसे मेल सखी...?
पंकज परिंदा
किस्मत एक ताना...
Sapna K S
कोई हमारा ना हुआ।
Taj Mohammad
हनुमंता
Dhirendra Panchal
पापा
सेजल गोस्वामी
अरदास
Buddha Prakash
मातृ रूप
श्री रमण
💐ये मेरी आशिकी💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आज अपने ही घर से बेघर हो रहे है।
Taj Mohammad
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
कोई तो है कहीं पे।
Taj Mohammad
शायद मैं गलत हूँ...
मनोज कर्ण
वो काली रात...!
मनोज कर्ण
भारतवर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
"मैं तुम्हारा रहा"
Lohit Tamta
"राम-नाम का तेज"
Prabhudayal Raniwal
Loading...