Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2022 · 1 min read

जीत कर भी जो

अपनी क़िस्मत से मात खाते हैं ।
जीत कर भी जो हार जाते हैं ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

6 Likes · 149 Views
You may also like:
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जैसे सांसों में ज़िंदगी ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
बाबू जी
Anoop Sonsi
होती हैं अंतहीन
Dr fauzia Naseem shad
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
मेरे पापा
Anamika Singh
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
ठोकर खाया हूँ
Anamika Singh
Loading...