Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 23, 2021 · 1 min read

जीजा जी ।

सन 1984 , 1985 की बात होगी।हम इलाहाबाद में 12 वीं में पढ़ते थे। अब इलाहाबाद में रहें और इलाहाबादी रंग न चढ़े तो इलाहाबाद का घोर अपमान। बंक मारकर पहली फ़िल्म बेताब देखे। फ़िल्म का देखे पूरा टॉर्चर हुए। गेट पर कोई आवाज आती तो लगता हमारे यमदूत जीजा जी पधार गए हैं। तब हाजमा ठीक था वरना कितनी बार पतलून पीली हुई होती कहना मुश्किल है। ख़ैर फ़िल्म देखी घर आये जीजा जी दुआरे पर ही विराजमान थे। पूछे कहाँ से घूमकर आये हो ? हमने कहा कालेज से , कालेज से मडगार्ड पर तो तुम्हारे कालेज की पर्ची नहीं है। सच कहूं इतना सुनते ही 33 करोड़ देवता याद आ गए। कुछ देर के लिए तो दोर्णाचार्य की हालत हो गयी। समझ नहीं आया जो सुन रहा हूँ वह सही है ये जो मैं करके आया हूँ वह सही ही।
मैंने जीजा जी से कहा आप क्या कह रहे हैं मेरी समझ में नहीं आ रहा। जीजा बोले ये साइकल कालेज में नहीं थी।
मैं तुरन्त समझ गया। मैंने कहा जीजा जी मेरे दोस्त की दादी स्वरूप रानी अस्पताल में एडमिट है मैं वही गया था।
जीजा जी तो संतुष्ट हो गए।

पर में सारी रात असंतुष्ट होकर ये गाना गाता रहा।

जब हम जवा होंगे जाने कहाँ होंगे ,
लेकिन जहां होंगे वहां फरियाद करेंगे,
तेरी याद करेंगे

13 Likes · 206 Views
You may also like:
दुनिया की आदतों में
Dr fauzia Naseem shad
लॉकडाउन गीतिका
Ravi Prakash
हमारे जैसा कोई और....
sangeeta beniwal
प्रेम
Rashmi Sanjay
सर्वप्रिय श्री अख्तर अली खाँ
Ravi Prakash
संघर्ष
Arjun Chauhan
“ कोरोना ”
DESH RAJ
💐तत्वप्राप्ति: तथा मनुष्यस्य शरीर:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
द्विराष्ट्र सिद्धान्त के मुख्य खलनायक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जातिगत जनगणना से कौन डर रहा है ?
Deepak Kohli
नफ़्स
निकेश कुमार ठाकुर
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
कौन आएगा
Dhirendra Panchal
अंतिमदर्शन
विनोद सिन्हा "सुदामा"
✍️वो उड़ते रहता है✍️
'अशांत' शेखर
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
अपनापन
विजय कुमार अग्रवाल
" जीवित जानवर "
Dr Meenu Poonia
तरसती रहोगी एक झलक पाने को
N.ksahu0007@writer
समझता नहीं कोई
Dr fauzia Naseem shad
*हम आजाद होकर रहेंगे (कहानी)*
Ravi Prakash
✍️वो क्यूँ जला करे.?✍️
'अशांत' शेखर
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
दुखो की नैया
AMRESH KUMAR VERMA
मेरे गाँव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर [प्रथम...
AJAY AMITABH SUMAN
आजादी की कभी शाम ना हम होने देंगे
Ram Krishan Rastogi
ऐ दिल सब्र कर।
Taj Mohammad
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
दंगा पीड़ित
Shyam Pandey
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...