Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

जीऊतपुत्रिका व्रत

??????माँ??????

माँ बच्चों के दिर्घायु को रखती है उपवास।
जीऊतपुत्रिका व्रत यह महिमा अगम अपार।।
महिमा अगम अपार, व्रत निर्जल ही रहती।
हर बाधा से लड़ती मुश्किल हस कर सहती।।
अपने बच्चों की खातिर हो अटकी जिसकी जां।
इस धरती पर एक शख्सियत कहते उसको माँ।।
पं.संजीव शुक्ल “सचिन”
आप सभी महानुभावों को जीऊतपुत्रिका व्रत की कोटिशः हार्दिक शुभकामनाएं।।

161 Views
You may also like:
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Keshi Gupta
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
इंतज़ार थमा
Dr fauzia Naseem shad
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
माँ
आकाश महेशपुरी
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
Loading...