Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 4, 2016 · 1 min read

जिस रोज बनी दुर्गा मेरे मुल्क की माँ बहने

जिस रोज मेरे मुल्क का बाशिंदा जाग जायेगा
उस रोज मेरे मुल्क का ,आइन्दा जाग जायेगा
**********************************
बनी जिस दिन भी दुर्गा मेरे मुल्क की माँ बहने
उस रोज मेरे मुल्क से हर दरिंदा भाग जायेगा
***********************************
कपिल कुमार
03 /08/2016

आइन्दा…भविष्य
बाशिंदा….नागरिक

132 Views
You may also like:
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Mamta Rani
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Deepali Kalra
Nurse An Angel
Buddha Prakash
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
Loading...