Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2023 · 1 min read

जिस प्रकार प्रथ्वी का एक अंश अँधेरे में रहकर आँखें मूँदे हुए

जिस प्रकार प्रथ्वी का एक अंश अँधेरे में रहकर आँखें मूँदे हुए दुस्वप्न देखते हुए भी सूर्योदय होने पर जागने की आशा रखता है उसी प्रकार हमें भी किसी बूरे स्थिती में अच्छे वक्त के आने की ईश्वर के समक्ष सिफारिश करनी चाहिए।

1 Like · 224 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मै मानव  कहलाता,
मै मानव कहलाता,
कार्तिक नितिन शर्मा
हर जगह तुझको मैंने पाया है
हर जगह तुझको मैंने पाया है
Dr fauzia Naseem shad
पेड़ लगाए पास में, धरा बनाए खास
पेड़ लगाए पास में, धरा बनाए खास
जगदीश लववंशी
माना के तुम ने पा लिया
माना के तुम ने पा लिया
shabina. Naaz
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
Surya Barman
अगर दिल में प्रीत तो भगवान मिल जाए।
अगर दिल में प्रीत तो भगवान मिल जाए।
Priya princess panwar
आप जितने सकारात्मक सोचेंगे,
आप जितने सकारात्मक सोचेंगे,
Sidhartha Mishra
■ विडम्बना
■ विडम्बना
*Author प्रणय प्रभात*
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
तुझे देखने को करता है मन
तुझे देखने को करता है मन
Rituraj shivem verma
Kbhi asman me sajti bundo ko , barish kar jate ho
Kbhi asman me sajti bundo ko , barish kar jate ho
Sakshi Tripathi
3266.*पूर्णिका*
3266.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बेटी के जीवन की विडंबना
बेटी के जीवन की विडंबना
Rajni kapoor
नया से भी नया
नया से भी नया
Ramswaroop Dinkar
नवगीत
नवगीत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
Aarti sirsat
घायल तुझे नींद आये न आये
घायल तुझे नींद आये न आये
Ravi Ghayal
कौन करता है आजकल जज्बाती इश्क,
कौन करता है आजकल जज्बाती इश्क,
डी. के. निवातिया
दुआ किसी को अगर देती है
दुआ किसी को अगर देती है
प्रेमदास वसु सुरेखा
याद अमानत बन गयी, लफ्ज़  हुए  लाचार ।
याद अमानत बन गयी, लफ्ज़ हुए लाचार ।
sushil sarna
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
* मुस्कुराने का समय *
* मुस्कुराने का समय *
surenderpal vaidya
मां का हृदय
मां का हृदय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शबे- फित्ना
शबे- फित्ना
मनोज कुमार
दवा के ठाँव में
दवा के ठाँव में
Dr. Sunita Singh
इक दुनिया है.......
इक दुनिया है.......
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*यह कहता चाँद पूनम का, गुरू के रंग में डूबो (मुक्तक)*
*यह कहता चाँद पूनम का, गुरू के रंग में डूबो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
ना कोई हिन्दू गलत है,
ना कोई हिन्दू गलत है,
SPK Sachin Lodhi
बेटा राजदुलारा होता है?
बेटा राजदुलारा होता है?
Rekha khichi
आज होगा नहीं तो कल होगा
आज होगा नहीं तो कल होगा
Shweta Soni
Loading...