Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Aug 4, 2016 · 1 min read

जिस दिन सरहद पर जाऊंगा

बाल कविता

बन सिपाही जिस दिन सरहद पर जाऊंगा!
दुशमन को फिर उस रोज़ मज़ा चखाऊंगा!
मां तुम रोना मत गर वापिस न आऊं मैं !
देश का अपने पर देखना मान मैं बढ़ाऊंगा!
जब तक रहेगी आखिरी सांस बाकि मेरी!
चुन चुन कर सबको सरहद से भगाऊंगा!
तेरा बेटा हूँ मां तुझसे ही तो सीखा है!
जीवन अपना देश को अर्पन कर जाऊंगा !!!
कामनी गुप्ता ***

334 Views
You may also like:
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
प्रेम रस रिमझिम बरस
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
माँ की याद
Meenakshi Nagar
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
💔💔...broken
Palak Shreya
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Loading...