Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2016 · 1 min read

जिसे चाहकर भी भुलाया न गया

दिल से जिसे चाहकर भी भुलाया न गया।
आँखों में भी उन्हें फिर छुपाया न गया।

महकते गुलो की थी महकती सी खुशबू
उनसे भी ज़ख्म दिल का मिटाया न गया।

खामोशी भी रह रहकर यह एहसास दिलाने लगी
लफ्ज़ों के हुनर से भी जिसे समझाया न गया।

गैर होकर भी वो लगने लगे थे अपने से
अपने वो कैसे थे जिनसे हमें कभी अपनाया न गया।।।
कामनी गुप्ता ***

287 Views
You may also like:
■ गीत / कहाँ अब गाँव रहे हैं गाँव?
*प्रणय प्रभात*
सच वह देखे तो पसीना आ जाए
कवि दीपक बवेजा
कजरी लोक गीत
लक्ष्मी सिंह
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
माता अहिल्याबाई होल्कर जयंती
Dalveer Singh
कमजोरी अपनी यहाँ किसी को
gurudeenverma198
जिनवानी स्तुती (अभंग )
Ajay Chakwate *अजेय*
पंछी हमारा मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
कळस
Shyam Sundar Subramanian
दुआओं की नौका...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पिता
Madhu Sethi
✍️जेरो-ओ-जबर हो गये✍️
'अशांत' शेखर
बदलते मौसम
Dr Archana Gupta
मन मोहन हे मुरली मनोहर !
Saraswati Bajpai
मैं शर्मिंदा हूं
Shekhar Chandra Mitra
बदलाव
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मन को मोह लेते हैं।
Taj Mohammad
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
काश़ ! तुम मेरा
Dr fauzia Naseem shad
मिसाल
Kanchan Khanna
दूरी रह ना सकी, उसकी नए आयामों के द्वारों से।
Manisha Manjari
अतीत के झरोखों से
Ravi Prakash
" राज संग दीपावली "
Dr Meenu Poonia
तुम्हारे रुख़सार यूँ दमकते
Anis Shah
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
न जाने तुम कहां चले गए
Ram Krishan Rastogi
श्रृंगार करें मां दुल्हन सी, ऐसा अप्रतिम अपरूप लिए
Er.Navaneet R Shandily
गाँव के रंग में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...