Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#30 Trending Author
Jun 1, 2022 · 1 min read

जिसको चुराया है उसने तुमसे

वैसे तो तुम्हारे नाम से,
चुरा लिया है उसने,
एक ऐसी चीज को,
जिसको रख दिया जाये अगर,
तो वह सोने की तरह होगी रोशन,
जलेगी नहीं वह कभी
अमिट है वह सच में।

छूना चाहा था किसी ने,
लगाना चाहा था किसी ने,
दाग तुम्हारे दामन पर,
तुमको देकर कोई लोभ,
मगर उसने बचा लिया,
तेरे पवित्र दामन को,
क्योंकि उसको थी तुमसे,
सच में सच्ची मोहब्बत।

उसको बहुत अच्छा लगता था,
तुम्हारा नाम और काम,
तुम्हारा उससे गुस्सा होना,
तुम्हारा उससे रूठना हर बात पर,
तुम्हारा खिलखिलाकर हंसना,
अपनी आँखों से मन की बात कहना,
इसीलिए वह करीब था तुम्हारे।

बहकाया था जमाने ने उसको,
तुम्हारे खिलाफ सच में बहुत,
कमियां तुम्हारी बताकर,
दाग तुम्हारे में बताकर,
करना चाहा था तुमसे दूर,
मगर वह दूर तुमसे नहीं हुआ,
क्योंकि उसको तुमसे वास्तव में,
सच्ची मोहब्बत थी दिल से।

आज चाहे जी रहे हो तुम,
अपनी-अपनी जिंदगी को,
अपने-अपने हिसाब से,
मगर उसने रखी है वह चीज,
एक अमानत के हिसाब से,
अपने पास सम्भालकर,
सोने की तरह पवित्र-बेदाग,
तुम्हारे नाम का प्रथम शब्द,
जिसको चुराया है उसने तुमसे।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

97 Views
You may also like:
तेरे बिन
Harshvardhan "आवारा"
“ सभक शुभकामना बारी -बारी सँ लिय ,आभार व्यक्त करबा...
DrLakshman Jha Parimal
देवता सो गये : देवता जाग गये!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
✍️मेरे अंतर्मन के गदर में..✍️
'अशांत' शेखर
पल
sangeeta beniwal
मौसम बदल रहा है
Anamika Singh
बहते हुए लहरों पे
Nitu Sah
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
*श्री शचींद्र भटनागर : एक अध्यात्मवादी गीतकार*
Ravi Prakash
ऐ बादल अब तो बरस जाओ ना
नूरफातिमा खातून नूरी
आईना झूठ लगे
VINOD KUMAR CHAUHAN
*नेताजी : एक रहस्य* _(कुंडलिया)_
Ravi Prakash
" बावरा मन "
Dr Meenu Poonia
राहतें ना थी।
Taj Mohammad
हमनें ख़ामोश
Dr fauzia Naseem shad
कलम कि दर्द
Hareram कुमार प्रीतम
रामायण आ रामचरित मानस मे मतभिन्नता -खीर वितरण
Rama nand mandal
हक़ीक़त सभी ख़्वाब
Dr fauzia Naseem shad
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
तिरंगे की ललकार हो
kumar Deepak "Mani"
डगर कठिन हो बेशक मैं तो कदम कदम मुस्काता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
एक तोला स्त्री
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
गंगा माँ
Anamika Singh
तकदीर
Anamika Singh
जुबान काट दी जाएगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
सावन आया झूम के .....!!!
Kanchan Khanna
यूं हुस्न की नुमाइश ना करो।
Taj Mohammad
मैं आजाद भारत बोल रहा हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
Loading...