Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Sep 2022 · 2 min read

जियो उनके लिए/JEEYO unke liye

मेरे जीने की आस जिंदगी से कोसो दूर चली गयी थी कि अब मेरा कौन है ? मैं किसके लिए अपना आँचल पसारुंगा ? पर देखा-लोक-लोचन में असीम वेदना। तब मेरा ह्रदय मर्मान्तक हो गया , फिर मुझे ख्याल आया कि अब मुझे जीना होगा , हाँ अपने स्वार्थ के लिए न सही ,परमार्थ के लिए ही ।
मैं ज़माने का निकृष्ट था तब देखा उस सूर्य को कि वह निःस्वार्थ भाव से कालिमा में लालिमा फैला रहा है तो क्यों न मैं भी उसके सदृश बनूं ।भलामानुष वन सुप्त मनुष्यत्व को जागृत करुं। मैं शैने-शैने सदमानुष के आँखों से देखा-लोग असहा दर्द से विकल है उनपर ग़मों व दर्दों का पहाड़ टूट पड़ा है और चक्षुजल ही जलधि बन पड़ी हैं फिर तो मैं एक पल के लिए विस्मित
हो गया । मेरा कलेजा मुंह को आने लगा।परन्तु दुसरे क्षण वही कलेजा ठंडा होता गया और मैंने चक्षुजल से बने जलधि को रोक दिया ।क्योंकि तब तक मैं भी दुनिया का एक अंश बन गया था । जब तक मेरी सांसें चली.. तब तक मैं उनके लिए आँचल पसारा
किन्तु अब मेरी साँसे लड़खड़ाने लगी हैं , जो मैंने उठाए थे ग़मों व दर्दों के पहाड़ से भार को वह पुनः गिरने लगा है ।
अतः हे भाई !अब मैं उनके लिए तुम्हारे पास , आस लेकर आँचल पसारता हूँ … और कहता हूँ तुम उन अंधों के आँख बन जाओ ,तुम उन लंगड़ों के पैर बन जाओ और जियो ‘उनके लिए’ . क्या तुम उनके लिए जी सकोगे ? या तुम भी उन जन्मान्धों के सदृश काम (वासना) में अंधे बने रहोगे ?
राष्ट्रिय कवि मैथिलीशरण गुप्त ने ठीक ही कहा है –
‘ जीना तो है उसी का ,
जिसने यह राज़ जाना है।
है काम आदमी का ,
औरों के काम आना है ।।

Language: Hindi
2 Likes · 70 Views
You may also like:
नशा मुक्त अनमोल जीवन
Anamika Singh
"अबकी जाड़ा कबले जाई "
Rajkumar Bhatt
ये बारिश के मोती
Kaur Surinder
Red Rose
Buddha Prakash
बाल विवाह
Utkarsh Dubey “Kokil”
✍️हद ने दूरियां बदली✍️
'अशांत' शेखर
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
इतना मत लिखा करो
सूर्यकांत द्विवेदी
. खुशी
Vandana Namdev
तेरा आईना हो जाऊं
कवि दीपक बवेजा
जादुई कलम
Arvina
मौसम
Surya Barman
गीत-1 (स्वामी विवेकानंद जी)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अपने पथ आगे बढ़े
Vishnu Prasad 'panchotiya'
👌🥀🌺आप में कोई जादू तो है🌺🥀👌
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चली चली रे रेलगाड़ी
Ashish Kumar
आख़िरी फैसला
Shekhar Chandra Mitra
తెలుగు
विजय कुमार 'विजय'
घर घर तिरंगा हो।
Rajesh Kumar Arjun
Writing Challenge- दरवाजा (Door)
Sahityapedia
जब सावन का मौसम आता
लक्ष्मी सिंह
✍️कैद ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मेरे 20 सर्वश्रेष्ठ दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
■ कविता / मेरे नायक : अवधेश राम
*प्रणय प्रभात*
गज़ल
Sunita Gupta
याद आयो पहलड़ो जमानो "
Dr Meenu Poonia
अपनी अना का
Dr fauzia Naseem shad
*थके-हारे अगर हो तो, तनिक विश्राम कर लेना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
मौत।
Taj Mohammad
Loading...