Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 23, 2022 · 1 min read

जिम्मेदारी और पिता

जिम्मेदारीयों के बोझ तले दबा हुआ पिता
बच्चों की ख़ातिर फिर भी खुश रहता है पिता.

बीबी से भी कभी शिकायत नहीं कर पाता?
बीबी बच्चों के लिए हर पल जीता है पिता.

घर परिवार की जिम्मेदारी मे भागमभाग
हर मेहनतकशी करता है जो पिता.

घर का चूल्हा जले दो वक्त की रोटी मिले
खून पसीने एक कर देता है पिता.

क्या उसकी अब अपनी कोई खुशियां नहीं?
शायद बच्चों की खुशियों में ही खुश हो लेता है पिता.

घर परिवार खुशहाल रहे यही जिम्मेदारी निभाने
तपीश धूप या बारीश हो मेहनत मजूरी करता है पिता

कवि- डाॅ. किशन कारीगर
(©काॅपीराईट)
(काव्य प्रतियोगिता के लिए मौलिक एवं स्वरचित रचना)

7 Likes · 18 Comments · 277 Views
You may also like:
🍀🌺प्रेम की राह पर-43🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
कितना मुश्किल है पिता होना
Ashish Kumar
💐💐प्रेम की राह पर-19💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शब्दों से परे
Mahendra Rai
चिड़िया और जाल
DESH RAJ
✍️✍️धूल✍️✍️
"अशांत" शेखर
क्या गढ़ेगा (निर्माण करेगा ) पाकिस्तान
Dr.sima
मैं इनकार में हूं
शिव प्रताप लोधी
पिता पच्चीसी दोहावली
Subhash Singhai
रस्सियाँ पानी की (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
पैसा
Arjun Chauhan
Crumbling Wall
Manisha Manjari
“ शिष्टता के धेने रहू ”
DrLakshman Jha Parimal
दादी की कहानी
दुष्यन्त 'बाबा'
मदिरा और मैं
Sidhant Sharma
थिरक उठें जन जन,
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️पत्थर-दिल✍️
"अशांत" शेखर
तुम...
Sapna K S
✍️I am a Laborer✍️
"अशांत" शेखर
कविराज
Buddha Prakash
✍️आज फिर जेब खाली है✍️
"अशांत" शेखर
सबसे बड़ा सवाल मुँहवे ताकत रहे
आकाश महेशपुरी
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कविता संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मेरे दिल के करीब,आओगे कब तुम ?
Ram Krishan Rastogi
मुझे धोखेबाज न बनाना।
Anamika Singh
ऊपज
Mahender Singh Hans
Loading...