Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 27, 2022 · 1 min read

जिन्दगी में होता करार है।

भंवरों को गुंजन से,
कलियों को चमन से,
आशिक को सनम से,
नज़र को चिलमन से,
जिन्दगी में होता करार है।।

आंखों को अश्कों से,
मलहम को जख्मों से,
इज़्जत को रस्मों से,
खानदान को पुरखों से,
रिश्ता होता बड़ा खास है।।

हुस्न को अदाओं पे,
बाप को बेटों पे,
मां को दुआओं पे,
दिल को अरमानों पे,
बहुत होता बड़ा नाज़ है।।

सनम को बेवफाई में,
इज़्जत को रुसवाई में,
मां को बेटी की विदाई में,
सच्चे को बुराई में,
मिलता हमेशा ही घाव है।।

परिंदों को गुलशन से,
साथी को हमदम से,
जवान को वतन से,
दिल को धड़कन से,
होता हमेशा ही प्यार है।।

कागज़ को कलम से,
भाई को बहन से,
दूल्हे को दुल्हन से,
बूंद को शबनम से,
मुहब्बत होती बेहिसाब है।।

सागर को लहर से,
इश्क को नज़र से,
जिदंगी को जहर से,
कुव्वत को डर से,
इनमें खतरा रहता साथ है।।

प्यास को आब से,
तलवार को धार से,
दिलदार को प्यार से,
सवाल को जवाब से,
मिलता सुकूँ लाज़वाब है।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

106 Views
You may also like:
हाँ, वह "पिता" है ...........
Mahesh Ojha
अब जो बिछड़े तो
Dr fauzia Naseem shad
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
शत शत नमन उन सपूतों को
gurudeenverma198
पूँछ रहा है घायल भारत
rkchaudhary2012
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
हासिल करने की ललक होनी चाहिए
Anamika Singh
सावन का मौसम आया
Anamika Singh
कैलाश मानसरोवर यात्रा (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
“ प्रतिक्रिया ,समालोचना आ टिप्पणी “
DrLakshman Jha Parimal
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
✍️ये केवल संकलन है,पाठकों के लिये प्रस्तुत
'अशांत' शेखर
मुझे तो सदगुरु मिल गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
आया सावन ओ साजन
Anamika Singh
✍️मेरी जान मुंबई है✍️
'अशांत' शेखर
🌺परमात्प्राप्ति: स्वतः सिद्ध:,,✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जाने क्यों वो सहमी सी ?
Saraswati Bajpai
#जातिबाद_बयाना
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
कितना मुश्किल है पिता होना
Ashish Kumar
ये दिल
Dr fauzia Naseem shad
क्या क्या हम भूल चुके है
Ram Krishan Rastogi
✍️जिंदगी के अस्ल✍️
'अशांत' शेखर
ग़ज़ल
kamal purohit
मकान जला है।
Taj Mohammad
हे मनुष्य!
Vijaykumar Gundal
मंजिल की तलाश
AMRESH KUMAR VERMA
विचार
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
शम्मा ए इश्क़।
Taj Mohammad
Loading...