Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2022 · 1 min read

जिन्दगी और दर्द

जब जिन्दगी ने
जरूरत से ज्यादा दर्द दिया
मैने भी दर्द मे
हँसने का हुनर सीख लिया
तब से किसी को पता ही
नही चलता है
मै कब दर्द मे रहती हूँ
और कब मेरे जीवन खुशी रहता है
अब लोग इंतजार करते रहते है
आखिर यह रोती क्यो नही
सोचते रह जाते है लोग
लगता है इसके जीवन मे अब
किसी तरह का कोई दर्द
आता ही नही है।

~अनामिका

2 Likes · 2 Comments · 178 Views
You may also like:
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
बहुमत
मनोज कर्ण
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुम वही ख़्वाब मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
तू नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Ram Krishan Rastogi
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
Loading...