Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-170💐

जिन्दगी अफ़साने से कम नहीं,
सौ रंग बदलकर इक रंग जमाती है।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
53 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
रूठे लफ़्ज़
रूठे लफ़्ज़
Alok Saxena
मैं चांद को पाने का सपना सजाता हूं।
मैं चांद को पाने का सपना सजाता हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
समय का एक ही पल किसी के लिए सुख , किसी के लिए दुख , किसी के
समय का एक ही पल किसी के लिए सुख , किसी के लिए दुख , किसी के
Seema Verma
ख़ुशामद
ख़ुशामद
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वो कत्ल कर दिए,
वो कत्ल कर दिए,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
श्रम कम होने न देना _
श्रम कम होने न देना _
Rajesh vyas
प्रणय 8
प्रणय 8
Ankita Patel
💐प्रेम कौतुक-271💐
💐प्रेम कौतुक-271💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुसलसल ठोकरो से मेरा रास्ता नहीं बदला
मुसलसल ठोकरो से मेरा रास्ता नहीं बदला
कवि दीपक बवेजा
आज फिर जिंदगी की किताब खोली
आज फिर जिंदगी की किताब खोली
rajeev ranjan
शहीद की पत्नी
शहीद की पत्नी
नन्दलाल सुथार "राही"
अच्छा है तू चला गया
अच्छा है तू चला गया
Satish Srijan
रंगोत्सव की हार्दिक बधाई
रंगोत्सव की हार्दिक बधाई
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ज़िन्दगी का सफ़र
ज़िन्दगी का सफ़र
Sidhartha Mishra
*आओ गाओ गीत बंधु, मधु फागुन आया है (गीत)*
*आओ गाओ गीत बंधु, मधु फागुन आया है (गीत)*
Ravi Prakash
मेरा तितलियों से डरना
मेरा तितलियों से डरना
ruby kumari
घायल तुझे नींद आये न आये
घायल तुझे नींद आये न आये
Ravi Ghayal
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
आपातकाल
आपातकाल
Shekhar Chandra Mitra
उठाना होगा यमुना के उद्धार का बीड़ा
उठाना होगा यमुना के उद्धार का बीड़ा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Yado par kbhi kaha pahra hota h.
Yado par kbhi kaha pahra hota h.
Sakshi Tripathi
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
DrLakshman Jha Parimal
सुबह सुहानी आपकी, बने शाम रंगीन।
सुबह सुहानी आपकी, बने शाम रंगीन।
आर.एस. 'प्रीतम'
"स्मार्ट कौन?"
Dr. Kishan tandon kranti
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
Anand Kumar
मुझे पढ़ने का शौक आज भी है जनाब,,
मुझे पढ़ने का शौक आज भी है जनाब,,
Seema gupta,Alwar
आइये, तिरंगा फहरायें....!!
आइये, तिरंगा फहरायें....!!
Kanchan Khanna
तू प्रतीक है समृद्धि की
तू प्रतीक है समृद्धि की
gurudeenverma198
हे कलम
हे कलम
Kavita Chouhan
Loading...