#16 Trending Author
Jan 17, 2022 · 1 min read

जिनसे पूरी उम्मीद होती है

जिनसे कोई उम्मीद नहीं होती
वह कभी कभी उम्मीद बंधाने चले
आते हैं
जिनसे पूरी उम्मीद होती है
वह तो अक्सर ही उसे
थोड़ा नहीं
सारे का सारा तोड़
देते हैं
जानबूझकर ही
सिर से पांव तक
कुछ नहीं छोड़ते
न रूह
न जिगर
न दिल
न देह
न उसकी राख को भी।

मीनल
सुपुत्री श्री प्रमोद कुमार
इंडियन डाईकास्टिंग इंडस्ट्रीज
सासनी गेट, आगरा रोड
अलीगढ़ (उ.प्र.) – 202001

1 Like · 102 Views
You may also like:
"दोस्त"
Lohit Tamta
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
एक मसीहा घर में रहता है।
Taj Mohammad
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
सोए है जो कब्रों में।
Taj Mohammad
मुझे चाहत हैं तेरी.....
Dr. Alpa H.
**दोस्ती हैं अजूबा**
Dr. Alpa H.
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
धरती माँ का करो सदा जतन......
Dr. Alpa H.
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
जिन्दगी रो पड़ी है।
Taj Mohammad
दया करो भगवान
Buddha Prakash
!!! राम कथा काव्य !!!
जगदीश लववंशी
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट...
Kuldeep mishra (KD)
हम गीत ख़ुशी के गाएंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कुछ झूठ की दुकान लगाए बैठे है
Ram Krishan Rastogi
समीक्षा -'रचनाकार पत्रिका' संपादक 'संजीत सिंह यश'
Rashmi Sanjay
आपकी याद
Abhishek Upadhyay
लगा हूँ...
Sandeep Albela
राई का पहाड़
Sangeeta Darak maheshwari
संकोच - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ज़िन्दगी के किस्से.....
Chandra Prakash Patel
जीने की चाहत है सीने में
Krishan Singh
शायरी संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
जोशवान मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
तितली सी उड़ान है
VINOD KUMAR CHAUHAN
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
क्यों सत अंतस दृश्य नहीं?
AJAY AMITABH SUMAN
सिया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
श्रृंगार
Alok Saxena
Loading...