Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Aug 2022 · 1 min read

जिनकी नज़र में

उन से इस ज़िन्दगी का तजुर्बा न पूछिए ।
जिनकी नज़र में अब, एक सवाल ज़िन्दगी है ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

4 Likes · 43 Views
You may also like:
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Deepali Kalra
बहुत उम्मीद रखना भी
Dr fauzia Naseem shad
उसकी आदत में रह गया कोई
Dr fauzia Naseem shad
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
Little sister
Buddha Prakash
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Ram Krishan Rastogi
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
Loading...