Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 4, 2022 · 1 min read

जितना भी पाया है।

जितना भी पाया है काफी है जीने के लिए।
बस एक सनम चाहिए इश्क करने के लिए।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

1 Like · 2 Comments · 46 Views
You may also like:
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
'हरि नाम सुमर' (डमरू घनाक्षरी)
Godambari Negi
मन चाहे कुछ कहना....!
Kanchan Khanna
यह जिन्दगी
Anamika Singh
*स्वर्गीय कैलाश चंद्र अग्रवाल की काव्य साधना में वियोग की...
Ravi Prakash
💐💐ये पदार्थानां दास भवति।ते भगवतः भक्तः न💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️✍️व्यवस्था✍️✍️
'अशांत' शेखर
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
मन की उलझने
Aditya Prakash
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
बिंदु छंद "राम कृपा"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
गीत - मुरझाने से क्यों घबराना
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
पिया मिलन की आस
Kanchan Khanna
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
केंचुआ
Buddha Prakash
💐💐सत्संगस्य महत्वम्💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
परिंदे को गम सता रहा है।
Taj Mohammad
हमको समझ ना पाए।
Taj Mohammad
प्रकृति की नज़ाकत
Dr.Alpa Amin
कैसे बताऊं,मेरे कौन हो तुम
Ram Krishan Rastogi
रोना भी बहुत जरूरी है।
Taj Mohammad
✍️✍️रूपया✍️✍️
'अशांत' शेखर
'बेवजह'
Godambari Negi
🌺प्रेम की राह पर-58🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पापा
Anamika Singh
धर्म निरपेक्ष चश्मा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कबीरा...
Sapna K S
भारत बनाम (VS) पाकिस्तान
Dr.sima
अल्फाजों के घाव।
Taj Mohammad
Loading...