Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

अभिलाषा

मेरे हृदय के तुम मंदिर में;
कोई दीप जलाओ न;
बरसों से यहाँ घना अँधेरा;
एक किरण बन जाओ न।।

इस मंदिर को पावन कर दो;
बस इतनी सी आशा है;
तुम बन जाओ कोई मूरत;
मेरी ये अभिलाषा है।।

259 Views
You may also like:
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
पिता
विजय कुमार 'विजय'
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बाबू जी
Anoop Sonsi
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
इश्क
Anamika Singh
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
लक्ष्मी सिंह
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
अनामिका के विचार
Anamika Singh
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
इंतजार
Anamika Singh
पिता
Shailendra Aseem
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
संत की महिमा
Buddha Prakash
पिता
Aruna Dogra Sharma
Loading...