Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

जिओ और जीने दो

ख़ुद जिओ

अपने जियें,

और

काल-कवलित

हो जायें।

कितना नाज़ां / स्वार्थी

और वहशी है तू ,

तेरे रिश्ते

रिश्ते हैं

औरों के फ़ालतू।

चलो अब फिर

समझदार,

नेक हो जायें,

अपनी ज़ात

फ़ना होने तक

क्यों बौड़म हो जायें….?

क़ुदरत की

करिश्माई कृति = इंसान

सृजन को

विनाश के

मुहाने पर

लाने वाला =इंसान।

महक फूलों की

दिशा कब

तय कर पाती,

आब -ओ – हवा

सरहदों के

नक़्शे कभी न पढ़ पाती।

अंडे रखने को

तिनके

चुनकर

चिड़िया चोंच में दबाकर ,

सीमांत इलाक़ों में

कुछ इधर से

कुछ उधर से लाती।

बहती है नदी

ख़ुद क्या ले पाती,

रौशनी सूरज की

जगमगाती जग को,

तब हरी पत्तियां

भोजन बनातीं,

शुभ्र चाँदनी में रातें

ख़ूब खुलकर खिलखिलातीं ।

ऑक्सीजन

देते-देते पेड़

कभी न हारे हैं ,

इंसान तेरी

पैसे की हवस ने

कितने मज़लूम मासूम मारे हैं।

तमसभरी राह में

कोई लड़खड़ा गया है,

अँधेरा बहुत

अब तो गहरा गया है,

घनेरा आलोचा गया अँधेरा,

अब दरवाज़े पर एक दीपक जलायें ,

उकता गया है मन……. चलो

नींद आने तक दादी से सुनें कथाऐं।

#रवीन्द्र सिंह यादव

शब्दों के अर्थ / Word Meanings

और = अन्य ,दूसरे,दूसरा ,अतिरिक्त /Others ,Another, And,More

काल-कवलित = मृत ,मर चुका ,निष्प्राण / Dead

नाज़ां = घमंड में चूर ,गर्वित /Proud ,Arrogant

वहशी =जंगली , सनकी ,Crazy ,Wild

फ़ालतू = अनावश्यक ,अतिरिक्त / Extra ,over

नेक = दयालु ,भला /Kind , One who possess noble-nature

फ़ना = नष्ट होना , विनाश होना,नष्ट-भ्रष्ट होना ,तहस-नहस होना / Destruction,Ruin

ज़ात = जाति ,नश्ल / Caste ,Race

बौड़म = कुंद-दिमाग़, मंद-बुद्धि ,सुस्त -दिमाग़ / Duffer ,Stupid , Awkward

क़ुदरत = प्रकृति , ब्रह्माण्ड,काएनात /Nature ,Universe ,World

करिश्माई -कृति = अदभुत रचना ,अनुपम सृजन , Wonderful Creation

सृजन = रचना करना ,निर्माण करना / Creation

विनाश = समाप्त होना ,नाश /नष्ट होना , Destruction

मुहाने पर = मुख पर (जैसे नदी का मुहाना )/ At the mouth ,Outfall

आब -ओ -हवा =जलवायु ,परिवेश ,माहौल / Climate ,Environment

सरहदों = सीमाओं, हदों /Borders ,Limits ,Boundaries

चोंच = मुख का अग्र , नुकीला,कठोर भाग जो भोजन आदि को पकड़ने में सहायक होता है , थूथन ,थूथनी / Beak

सीमांत = जहां सीमा का अंत हो, सीमावर्ती /Frontier

शुभ्र = चमकीली /Bright

हवस = अंधी चाह ,वासना, / Desire ,Greed ,Curiosity

मज़लूम = दबा-कुचला ,पीड़ित , जिससे ग़लत व्यवहार किया गया हो / Oppressed ,Injured ,One who is treated in wrong manner

मासूम = निरपराध ,निर्दोष / Innocent

तमसभरी राह =अँधेरे में डूबा मार्ग ,Dark Path

लड़खड़ा गया = जिसके क़दम डगमगा गए हों , क़दम चूकना, पाँव टेड़े -मेढ़े पड़ना /Staggered

घनेरा आलोचा गया = सघन रूप से जिसकी आलोचना /बुराई की गयी हो / Intense Criticism

उकता गया है = ऊब गया है / Fad up

मन = जी ,जियरा ,जिया ,मानस ,चित्त , 40 किलो वज़न भार की नाप (Mound ), Mind ,Psyche

चोंच = मुख का अग्र , नुकीला,कठोर भाग जो भोजन आदि को पकड़ने सहायक होता है , थूथन ,थूथनी / Beak

192 Views
You may also like:
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Nurse An Angel
Buddha Prakash
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
परखने पर मिलेगी खामियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
Loading...