Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Oct 2022 · 1 min read

जिंदगी

राम से है बड़ी ,राम की बंदगी।
फिर फटेहाल क्यों ,आम ये जिंदगी।1।

बाढ़ में बह गया, है जुनुं प्यार का
मुफलिसी में कटी ,यार ये जिन्दगी।2।

रोटियां जो मिली, सिसकियाँ भी मिली।
रोज मिलती नहीं, प्यार की जिंन्दगी।3।

रूठता जब रहा , बचपना प्यार को।
क्रूरता ही मिली, जब मिली जिन्दगी।4।

जब लगी ठोकरें, आँख खुल ही गयी।
बोझ ढोने लगी , बोझ हो जिंदगी।5।

आसमां झुक गया, जब क्षितिज के
लिये।
थम गया वो समय , मिल गयी जिंदगी।6।

“प्रेम” कहता रहा ,नफरती राह में।
कंटकों से भरी ,प्यार है जिंदगी।7।

डा.प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम

Language: Hindi
Tag: ग़ज़ल
3 Likes · 1 Comment · 79 Views
You may also like:
■ मुक्तक / दुर्भाग्यपूर्ण दृश्य
*Author प्रणय प्रभात*
फल
Aditya Prakash
संगीत
Surjeet Kumar
'बेवजह'
Godambari Negi
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
गणपति
विशाल शुक्ल
मोह....
Rakesh Bahanwal
लैपटॉप सी ज़िंदगी
सूर्यकांत द्विवेदी
जियले के नाव घुरहूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नन्ही भव्या
Shyam kumar kolare
हम भी कहेंगे अपने तजुरबात पे ग़जल।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*** " पापा जी उन्हें भी कुछ समझाओ न...! "...
VEDANTA PATEL
दर्द ने हम पर
Dr fauzia Naseem shad
* बेवजहा *
Swami Ganganiya
पावस
लक्ष्मी सिंह
मुझे चांद का इंतज़ार नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जमातों में पढ़ों कलमा,
Satish Srijan
💐साधनं एषः एतस्मिन् असाधनं न💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
दौर ए हाजिर पर
shabina. Naaz
जीवन
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
कमजोरी अपनी यहाँ किसी को
gurudeenverma198
अश्रुपात्र A glass of years भाग 8
Dr. Meenakshi Sharma
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
मां क्यों निष्ठुर?
Saraswati Bajpai
12
Dr Archana Gupta
*विद्यालय की रिक्शा आई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
लिव इन रिलेशनशिप
Shekhar Chandra Mitra
इक ख्वाहिश है।
Taj Mohammad
Loading...