Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 22, 2022 · 1 min read

जिंदगी ये नहीं जिंदगी से वो थी

जिंदगी ये नहीं जिंदगी तो वो थी जो हम जी चुके जब मम्मी सुभा दंत कर उठाती थी खुद तयार कर स्कूल छोड कर आती थी

लोकी तोरी ना खाने पर खूब सुनती थी फिर थोड़ी थोड़ी लगाके खाले कहकर खुद खिलती थी
क्या दिन थे वो जब कल का कुछ पता ही नहीं था

हफ्ते महिन ये तो हम बस कोपियो म लिखते थे
कहा फस गए हम समजदारी के दल दाल म आज यह साल के 365दिन भी कम ओर तव स्कूल के 6दिन भी 365से लिखा करते थे
वो भी क्या दिन …अभिषेक उपाध्याय:द्वारा लिखित

79 Views
You may also like:
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
शक्ति राव मणि
बताकर अपना गम।
Taj Mohammad
स्वर कोकिला
AMRESH KUMAR VERMA
समय..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
पापा ने मां बनकर।
Taj Mohammad
कश्ती को साहिल चाहिए।
Taj Mohammad
अरदास
Buddha Prakash
आपातकाल
Shriyansh Gupta
ज़िंदगी का हीरो
AMRESH KUMAR VERMA
भ्राता - भ्राता
Utsav Kumar Aarya
उफ्फ! ये गर्मी मार ही डालेगी
Deepak Kohli
गाँव की स्थिति.....
Dr. Alpa H. Amin
काबुल का दंश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कोहिनूर
Dr.sima
बिक रहा सब कुछ
Dr. Rajeev Jain
✍️स्टेचू✍️
"अशांत" शेखर
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
माँ क्या लिखूँ।
Anamika Singh
पहाड़ों की रानी
Shailendra Aseem
बचपन की यादें
AMRESH KUMAR VERMA
भारतवर्ष
Utsav Kumar Aarya
ज़रा सामने बैठो।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-31💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
महफिल में छा गई।
Taj Mohammad
किसी को गिराया नहीं मैनें।
Taj Mohammad
✍️जमाना नहीं रहा...✍️
"अशांत" शेखर
ग्रीष्म ऋतु भाग ५
Vishnu Prasad 'panchotiya'
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
मज़दूर की महत्ता
Dr. Alpa H. Amin
Loading...