Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Apr 2022 · 1 min read

जिंदगी ये नहीं जिंदगी से वो थी

जिंदगी ये नहीं जिंदगी तो वो थी जो हम जी चुके जब मम्मी सुभा दंत कर उठाती थी खुद तयार कर स्कूल छोड कर आती थी

लोकी तोरी ना खाने पर खूब सुनती थी फिर थोड़ी थोड़ी लगाके खाले कहकर खुद खिलती थी
क्या दिन थे वो जब कल का कुछ पता ही नहीं था

हफ्ते महिन ये तो हम बस कोपियो म लिखते थे
कहा फस गए हम समजदारी के दल दाल म आज यह साल के 365दिन भी कम ओर तव स्कूल के 6दिन भी 365से लिखा करते थे
वो भी क्या दिन …अभिषेक उपाध्याय:द्वारा लिखित

Language: Hindi
Tag: कहानी
255 Views
You may also like:
वो हमें दिन ब दिन आजमाते रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
तेरा नूर
Dr.S.P. Gautam
एक पाती पितरों के नाम
Ram Krishan Rastogi
चार्वाक महाभारत का
AJAY AMITABH SUMAN
■ संवेदनशीलता
*Author प्रणय प्रभात*
प्रकाश
Saraswati Bajpai
'नील गगन की छाँव'
Godambari Negi
अपनी कहानी
Dr.Priya Soni Khare
मम्मी (बाल कविता)
Ravi Prakash
“ एक अमर्यादित शब्द के बोलने से महानायक खलनायक बन...
DrLakshman Jha Parimal
सबको नित उलझाये रहता।।
Rambali Mishra
तानाशाहों की मौत
Shekhar Chandra Mitra
आस्तीक भाग-एक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
# मेरे जवान ......
Chinta netam " मन "
बंद पड़ीं है लेखनी
लक्ष्मी सिंह
ऐसा कहते हैं सब मुझसे
gurudeenverma198
बात किसी और नाम किसी और का
Anurag pandey
बनारस की गलियों की शाम हो तुम।
Gouri tiwari
तरुवर की शाखाएंँ
Buddha Prakash
कोशिश
Anamika Singh
आप चेहरा बदल के मिलियेगा
Dr fauzia Naseem shad
Writing Challenge- त्याग (Sacrifice)
Sahityapedia
फौजी
Seema 'Tu hai na'
मोह....
Rakesh Bahanwal
हमको किस के सहारे छोड़ गए।
Taj Mohammad
దీపావళి జ్యోతులు
विजय कुमार 'विजय'
जनतंत्र में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कोरोना काल
AADYA PRODUCTION
गांधीजी के तीन बंदर
मनोज कर्ण
डिजिटल इंडिया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...