Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Dec 2022 · 1 min read

जिंदगी भर का चैन ले गए।

कुछ पल सुकूँ के देकर,
जिंदगी भर का चैन ले गए!!!
अब दिल लगता कहीं ना,
यूं हमको बेचैन कर गए!!!

आंखे मुंतजर रहती है रास्तों पर,
बस उनके ही वास्ते!!!
पर वो ना आए,
जाने कितने मौसम बदल गए!!!

अब टूटा दिल लेकर,
हम किससे फरियाद करें!!!
जिनको माना था खुदा,
वो पत्थर के हो गए!!!

दर दर भटकता हूं,
उनकी इक झलक के लिए!!!
जो मेरी जिंदगी में आकर,
वक्त से गुजर गए!!!

ताज मोहम्मद
लखनऊ

72 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-240💐
💐प्रेम कौतुक-240💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■आज का सवाल■
■आज का सवाल■
*Author प्रणय प्रभात*
बाल  मेंहदी  लगा   लेप  चेहरे  लगा ।
बाल मेंहदी लगा लेप चेहरे लगा ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
बुखारे इश्क
बुखारे इश्क
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
सोशल मीडिया
सोशल मीडिया
Surinder blackpen
जीवन एक सफर है, इसे अपने अंतिम रुप में सुंदर बनाने का जिम्मे
जीवन एक सफर है, इसे अपने अंतिम रुप में सुंदर बनाने का जिम्मे
Sidhartha Mishra
" एक बार फिर से तूं आजा "
Aarti sirsat
गीत-2 ( स्वामी विवेकानंद जी)
गीत-2 ( स्वामी विवेकानंद जी)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हिंदी
हिंदी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जिंदगी का सफर
जिंदगी का सफर
Gurdeep Saggu
I knew..
I knew..
Vandana maurya
लीकछोड़ ग़ज़ल
लीकछोड़ ग़ज़ल
Dr MusafiR BaithA
कहा खो गए वो
कहा खो गए वो
Khushboo Khatoon
यह धरती भी तो
यह धरती भी तो
gurudeenverma198
मैथिली मुक्तक (Maithili Muktak) / मैथिली शायरी (Maithili Shayari)
मैथिली मुक्तक (Maithili Muktak) / मैथिली शायरी (Maithili Shayari)
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
जिंदगी की पहेली
जिंदगी की पहेली
RAKESH RAKESH
हूं बहारों का मौसम
हूं बहारों का मौसम
साहित्य गौरव
बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर जी की १३२ वीं जयंती
बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर जी की १३२ वीं जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*पाठ समय के अनुशासन का, प्रकृति हमें सिखलाती है (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*पाठ समय के अनुशासन का, प्रकृति हमें सिखलाती है (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
हवाओं ने पतझड़ में, साजिशों का सहारा लिया,
हवाओं ने पतझड़ में, साजिशों का सहारा लिया,
Manisha Manjari
बात ! कुछ ऐसी हुई
बात ! कुछ ऐसी हुई
अशोक शर्मा 'कटेठिया'
" वर्ष 2023 ,बालीवुड के लिए सफ़लता की नयी इबारत लिखेगा "
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
माँ सच्ची संवेदना....
माँ सच्ची संवेदना....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीने की ख़्वाहिशों में
जीने की ख़्वाहिशों में
Dr fauzia Naseem shad
2234.
2234.
Dr.Khedu Bharti
उतर के आया चेहरे का नकाब उसका,
उतर के आया चेहरे का नकाब उसका,
कवि दीपक बवेजा
मां की पाठशाला
मां की पाठशाला
Shekhar Chandra Mitra
Loading...