Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jul 17, 2016 · 1 min read

जिंदगी थक गयी ऐसे हालात से .

यूँ ना खेला करो दिल के ज़ज्बात से .
जिंदगी थक गयी ऐसे हालात से .
रोज़ मिलते रहे सिर्फ मिलते रहे .
अब तो जी भर गया इस मुलाक़ात से .
ख्वाब में आता हँसता लिपटता सनम .
हो गई आशनाई हमें रात से .
गा रहा था ये दिल हंस रही थी नज़र .
क्या पता आँख भर आई किस बात से .
फन को मापतपुरी पूछता कौन है .
पूछे जाते यहाँ लोग अवकात से .
———–सतीश मापतपुरी

6 Comments · 172 Views
You may also like:
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रफ्तार
Anamika Singh
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
Loading...