Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
Apr 11, 2022 · 1 min read

जिंदगी क्या है?

हर रात सुलझा कर सिरहाने रखते है ये जिंदगी।
सुबह उठते ही उलझी पड़ी मिलती है ये जिंदगी।।

सुलझा सुलझा कर थक जाते हैं हम ये जिंदगी।
थकती नहीं ये जिंदगी,सुला देती हमे ये जिंदगी।।

बेवफ़ा हम नहीं,बेवफ़ा हो जाती है ये जिंदगी।
भरोसा इस पर कैसे करे,बेभरोसे है ये जिंदगी।।

रंक से राजा बनाए राजा से रंक बनाती है ये जिंदगी।
पल में राजमहल गिराए,पल मे बना देती हैं ये जिंदगी।।

समझ सका न इसे कोई समझाती सबको ये जिंदगी।
समझदार को बेवकूफ़ बनाती है हमेशा ये जिंदगी।।

ढूंढते रहते है कैसे सफल बने हमारी ये जिंदगी।
ढूंढते ढूंढते थक गए असफल हुई है ये जिंदगी।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

2 Likes · 2 Comments · 125 Views
You may also like:
" इच्छापूर्ति अक्टूबर "
Dr Meenu Poonia
इन्सानों का ये लालच तो देखिए।
Taj Mohammad
✍️डार्क इमेज...!✍️
"अशांत" शेखर
प्रेम
श्रीहर्ष आचार्य
Where is Humanity
Dheerendra Panchal
स्वाधीनता
AMRESH KUMAR VERMA
तुम ख़्वाबों की बात करते हो।
Taj Mohammad
मुफ्तखोरी की हुजूर हद हो गई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हम गीत ख़ुशी के गाएंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अरदास
Buddha Prakash
गीत -
Mahendra Narayan
आदर्श पिता
Sahil
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
वह मुझे याद आती रही रात भर।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आया आषाढ़
श्री रमण
अशक्त परिंदा
AMRESH KUMAR VERMA
हो दर्दे दिल तो हाले दिल सुनाया भी नहीं जाता।
सत्य कुमार प्रेमी
भारतवर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
उसको बता दो।
Taj Mohammad
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
यूं काटोगे दरख़्तों को तो।
Taj Mohammad
साल गिरह
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
इशारो ही इशारो से...😊👌
N.ksahu0007@writer
ग़ज़ल- कहां खो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नियमित दिनचर्या
AMRESH KUMAR VERMA
मेहरबानी
"अशांत" शेखर
✍️प्रेम खेळ नाही बाहुल्यांचा✍️
"अशांत" शेखर
Loading...