Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Aug 2022 · 1 min read

जिंदगी के रंग

ज़िन्दगी के रंग

जिन्दगी हर लम्हां रंग बदलती है।
कभी खुशी कभी ग़म में ढलती है।।

कभी रोती है, हँसती है, कभी चुप रहती है।
रुकती है, ठहरती है, गुज़रती है कभी चलती है।।

तड़पती है, तरसती है, बिखरती है कभी।
कभी गिरती है, उठती है, और सभँलती है।।

बिगड़ती है, बनती है, सँवरती है कभी।
कभी खुश्बू-खुश्बू फिज़ाओं में खिलती है।।

ग़म के बादल में छुप जाती है कभी।
और कभी चाँद बन के निकलती है।।

राज़ समझा है कौन जिन्दगी का ‘नाज़’।
सुबह होती है जब रात ढलती है।।

Language: Hindi
Tag: कविता
53 Views
You may also like:
सुकून :-
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
औरत औकात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सफर में उनके कदम चाहते है।
Taj Mohammad
करीं हम छठ के बरतिया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मां के आंचल
Nitu Sah
यह मत भूलों हमने कैसे आजादी पाई है
Anamika Singh
*मेरे देश का सैनिक*
Prabhudayal Raniwal
आपको कहीं देखा है ?(छोटी कहानी)
Ravi Prakash
हौसला क़ायम रहे
Shekhar Chandra Mitra
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
करप्शन के टॉवर ढह गए
Ram Krishan Rastogi
जो अपने अज़्म की
Dr fauzia Naseem shad
तिल,गुड़ और पतंग
VINOD KUMAR CHAUHAN
याद बीते दिनों की - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
छोड़ दिए संस्कार पिता के, कुर्सी के पीछे दौड़ रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गुलिस्तां
Alok Saxena
निःशब्द- पुस्तक लोकार्पण समारोह
Sahityapedia
ईश्वर के रूप 'पिता'
Gouri tiwari
धरती माँ
जगदीश शर्मा सहज
भाषा का सम्मान—पहचान!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
■ सत्यमेव जयते!!
*प्रणय प्रभात*
Shyari
श्याम सिंह बिष्ट
शिवाजी महाराज विदेशियों की दृष्टि में ?
Pravesh Shinde
आया शरद पूर्णिमा की महारास
लक्ष्मी सिंह
हिकायत से लिखी अब तख्तियां अच्छी नहीं लगती।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बारिश
Saraswati Bajpai
सनातन भारत का अभिप्राय
Ashutosh Singh
स्वर्ग नरक का फेर
Dr Meenu Poonia
✍️आखरी कोशिश✍️
'अशांत' शेखर
आदमी को आदमी से
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
Loading...