Sep 1, 2016 · 1 min read

जिंदगी का सफर

हँसते रहे मुस्कुराते रहे
दिल को दिलों से मिलाते रहे
ना रहे यहाँ जगह बैर भाव की
ज़िन्दगी सितारों से झिलमिलाते रहे !
@ विजय मिश्र *अभंग *

तीरे नज़र से घायल कर जाना
फिर चिलमन मे छुप जाना !
देख दीवानों का हाल बेहाल
फिर मन ही मन मे मुस्कुराना !!
@ विजय मिश्र *अभंग *

169 Views
You may also like:
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हिन्दी दोहे विषय- नास्तिक (राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पिता का सपना
श्री रमण
मेरे पापा
ओनिका सेतिया 'अनु '
अशोक विश्नोई एक विलक्षण साधक (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
मां का आंचल
VINOD KUMAR CHAUHAN
मौन की पीड़ा
Saraswati Bajpai
बेपरवाह बचपन है।
Taj Mohammad
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता की छाँव...
मनोज कर्ण
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
स्वप्न-साकार
Prabhudayal Raniwal
सम्मान की निर्वस्त्रता
Manisha Manjari
मेरी लेखनी
Anamika Singh
बाबा भैरण के जनैत छी ?
श्रीहर्ष आचार्य
*"पिता"*
Shashi kala vyas
* फितरत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
**जीवन में भर जाती सुवास**
Dr. Alpa H.
बसन्त बहार
N.ksahu0007@writer
नुमाइश बना दी तुने I
Dr.sima
ऐ वतन!
Anamika Singh
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग४]
Anamika Singh
तुझ पर ही निर्भर हैं....
Dr. Alpa H.
कौन है
Rakesh Pathak Kathara
कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।
निकेश कुमार ठाकुर
अब सुप्त पड़ी मन की मुरली, यह जीवन मध्य फँसा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...