Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

जा बैठे

ढूंढते रहे खुद को हार – थक के जा बैठे
फिर इस तरह से हम खुद को गंवा बैठे

सफ़र वैसे जिन्दगी का रहा है आसान कब
कभी जिन्दगी बैठे तो कभी मेरी जां बैठे

खुद के काम खुद ही तो आना पड़ता है
जब से दुनियादारी को हम आजमा बैठे

जिन्दगी की दौड़ में हो गए जब तन्हा हम
हसरत थी के सामने मेरे सारा जहां बैठे

मतलब की दुनिया है ये इल्म जब मुझे हुआ
तो समझ में आया के कोई क्यों खामखा बैठे

खुद को जानना है बस और कुछ नहीं मन में
ठान जब लिया है ये तो फिर मन में क्या बैठे

दर – बदर हो गया हूँ जिन्दगी की दौड़ में
कोई तो बता मुझे के किसके दर कहाँ बैठे

– सिद्धार्थ गोरखपुरी

1 Like · 86 Views
You may also like:
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दिन बड़ा बनाने में
डी. के. निवातिया
जगाओ हिम्मत और विश्वास तुम
gurudeenverma198
नैतिकता और सेक्स संतुष्टि का रिलेशनशिप क्या है ?
Deepak Kohli
✍️मानो तो ये भी सही✍️
'अशांत' शेखर
माँ
आकाश महेशपुरी
ईमानदारी
Utsav Kumar Aarya
फूलो की कहानी,मेरी जुबानी
Anamika Singh
कहाँ तुम पौन हो
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मित्रता दिवस
Dr Archana Gupta
भगवा हटा बिहार में, चढ़ गया हरा रंग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
“ गंगा ” का सन्देश
DESH RAJ
किसी पथ कि , जरुरत नही होती
Ram Ishwar Bharati
एक मसीहा घर में रहता है।
Taj Mohammad
✍️बात मुख़्तसर बदल जायेगी✍️
'अशांत' शेखर
"अशांत" शेखर भाई के लिए दो शब्द -
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
💔💔...broken
Palak Shreya
A Departed Soul Can Never Come Again
Manisha Manjari
✍️वो "डर" है।✍️
'अशांत' शेखर
ॐ नीलकंठ शिव है वो
Swami Ganganiya
पुरानी यादें
Palak Shreya
इन्द्रवज्रा छंद (शिवेंद्रवज्रा स्तुति)
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
अश्रुपात्र...A glass of tears भाग - 1
Dr. Meenakshi Sharma
गुरु की महिमा पर कुछ दोहे
Ram Krishan Rastogi
कोई किस्मत से कह दो।
Taj Mohammad
चुनौती
AMRESH KUMAR VERMA
मदहोश रहे सदा।
Taj Mohammad
चूँ-चूँ चूँ-चूँ आयी चिड़िया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हम ना सोते हैं।
Taj Mohammad
Loading...