Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

जाल बिछाये बैठे हैं लोग

यहाँ अपने चेहरों पर मुखोटे लगाये बैठे हैं लोग।
दूसरों को फंसाने को जाल बिछाये बैठे हैं लोग।

कोई मरता मर जाये उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता,
मरे हुओं पर भी गिद्ध सी नजर टिकाये बैठे हैं लोग।

अपने स्वार्थ की पूर्ति के लिए कुछ भी कर गुजरते हैं,
थोड़ी सी दौलत के लिए जमीर दफनाये बैठे हैं लोग।

इस दुनिया के रिश्ते नाते नजर नहीं आते उन्हें,
दौलत ही सब कुछ है खुद को समझाये बैठे हैं लोग।

माँ, बहनों की इज्जत तार तार हो जाती है सरे बाजार,
बेशर्मी और कामवासना के चश्में चढ़ाये बैठे हैं लोग।

तन बेचने वाली वेश्याओं को धिक्कारते हैं लोग अक्सर,
पर देश के गद्दारों अपने सिर पर बिठाये बैठे हैं लोग।

बन विपक्षी जनता की भलाई की बातें करते हैं नेता,
झूठे वादों पर उनके सुनहरे ख्वाब सजाये बैठे हैं लोग।

शहीदी दिवस पर छुट्टी होने के कारण शहीदों को याद करते हैं,
वरना उन पूण्य आत्माओं के सिद्धांत भुलाये बैठे हैं लोग।

पाक मोहब्बत अब रही नहीं देखो कैसा वक्त आ गया,
पर संग जीने मरने की झूठी कसम उठाये बैठे हैं लोग।

जिंदगी के सच से वाकिफ़ है यहाँ हर कोई “सुलक्षणा”,
पर झूठे अहंकार के नीचे सच को दबाये बैठे हैं लोग।

212 Views
You may also like:
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता
विजय कुमार 'विजय'
पिता
Saraswati Bajpai
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
If we could be together again...
Abhineet Mittal
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Keshi Gupta
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Shankar J aanjna
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
पिता
Deepali Kalra
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
Loading...