Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 2, 2021 · 1 min read

जालिम कोरोना

सुन्न कर दिया सब
जहरीला हुआ वातावरण
बिकने लगी है हवा
कोरोना की मार तगड़ी,
घर पर हुए बच्चे बोर
पढ़ाई भी हुई है खोटी
मस्ती हो गई कोसों दूर
मास्क बना सिर की पगड़ी,
वृद्ध की बनी न्यारी व्यथा
लगने लगा बुढ़पा अब खराब
अंत समय में ना घूम सके
मजबूरन सबने खाट पकड़ी,
यौवनावस्था की ढली जवानी
व्यापार की खत्म हुई कहानी
आराम कर हारा वह आज
नौजवान की भी कमर जकड़ी,
ढांचा बिगाड़ दिया हमने ही
धरती मां को उजाड़ डाला
हरे भरे पेड़ों को खा गए
मात्र ठूंठ बनी इनकी लकड़ी,
इंसान हुआ कैद पिंजरे में
जानवर सैर सपाटे पर निकले
प्राकृतिक हवा बदली सिलेंडर में
तेजी से टेक्नोलॉजी ने रफ्तार पकड़ी,
खत्म किए नदी, पहाड़, झरने
सावन की बारिश घुट गई
प्रकृति ने ले लिया बदला
मीनू बात कहे आज करड़ी।

1 Like · 270 Views
You may also like:
सुन री पवन।
Taj Mohammad
किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
चौंक पड़ती हैं सदियाॅं..
Rashmi Sanjay
# निनाद .....
Chinta netam " मन "
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक प्रेम पत्र
Rashmi Sanjay
तन्हाई के आलम में।
Taj Mohammad
वो प्यार कैसा
Nitu Sah
मजदूर की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
जिंदगी या मौत? आपको क्या चाहिए?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*पॉंव जमाना पड़ता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
💐 देह दलन 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दर्द
Anamika Singh
अच्छा मित्र कौन ? लेख - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
मदहोश रहे सदा।
Taj Mohammad
" जीवित जानवर "
Dr Meenu Poonia
जय सियाराम जय-जय राधेश्याम …
Mahesh Ojha
कुंडलिया छंद ( योग दिवस पर)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दोस्ती का हर दिन ही
Dr fauzia Naseem shad
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
आकर मेरे ख्वाबों में, पर वे कहते कुछ नहीं
Ram Krishan Rastogi
विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2022
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बहते हुए लहरों पे
Nitu Sah
कर्म पथ
AMRESH KUMAR VERMA
मैं डरती हूं।
Dr.sima
काश ! तेरी निगाह मेरे से मिल जाती
Ram Krishan Rastogi
याद भी तुमको
Dr fauzia Naseem shad
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
माटी - गीत
Shiva Awasthi
समुद्री जहाज
Buddha Prakash
Loading...