Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Aug 2022 · 1 min read

जान से प्यारा तिरंगा

रखा है शीर्ष से ऊपर,
सदा ही फहराया रहा ।
जान से प्यारा तिरंगा ,
कहीं झुक तो न रहा।।
सीने से लगा कर वह,
हर हाल में थामे रहा ।
सरहद ऊँची चोटी पर,
गगन में लहराता रहा।।
पीछे नही झांका वह,
वादे पर अडिग रहा ।
तिरंगा बसा कर दिल में ,
यौवन वतन चढ़ा रहा ।।
दुश्मन टोली कहर टूटा ,
सिंह सा वो लड़ता रहा।
हिन्द माटी से वो लिपटा,
गिर कर तिरंगा थामे रहा।।
आवाज देकर सोया है ,
सीमा प्रहरी जगा रहा ।।
झुके नही तिरंगा प्यारा,
गीत यह हमें सुना रहा ।
जान से है प्यारा तिरंगा,
नभ में वह दिखा रहा ।।
जान से है प्यारा तिरंगा,
सबको वह दिखा रहा ।।
जय हिंद, जय हिंद की सेना।
(रचनाकार- डॉ शिव ‘लहरी’)

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 191 Views
You may also like:
अहीर छंद (अभीर छंद)
Subhash Singhai
Writing Challenge- सौंदर्य (Beauty)
Sahityapedia
Daily Writing Challenge : सम्मान
'अशांत' शेखर
शमा से...!!!
Kanchan Khanna
जनसंख्या नियंत्रण जरूरी है।
Anamika Singh
कविता: सपना
Rajesh Kumar Arjun
■ सीख लो
*Author प्रणय प्रभात*
बेकाबू हुआ है ये दिल तड़पने लगी हूं
Ram Krishan Rastogi
एक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
भगवान सा इंसान को दिल में सजा के देख।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रकृति पर्यावरण बचाना, नैतिक जिम्मेदारी है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🌸हे लोहपथगामिनी 🌸🌸
Arvina
*मुस्कुराने का यहाँ,हर एक को अधिकार है (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
बनाए कुछ उसूल हैं।
Taj Mohammad
क्यों किया एतबार
Dr fauzia Naseem shad
बसंत ऋतु
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
वक्त से पहले
Satish Srijan
दर्द ए हया को दर्द से संभाला जाएगा
कवि दीपक बवेजा
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आदित्य हृदय स्त्रोत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अराच पत्रक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
देख रहे हो न विनोद
Shekhar Chandra Mitra
बेबस-मन
विजय कुमार नामदेव
तिरंगा
Ashwani Kumar Jaiswal
मम्मी थी इसलिए मैं हूँ...!! मम्मी I Miss U😔
Ravi Malviya
भावना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरे करीब़ हो तुम
VINOD KUMAR CHAUHAN
आजादी का अमृत महोत्सव
surenderpal vaidya
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
एक प्यार ऐसा भी /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
Loading...