Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jul 2016 · 1 min read

जान मुझ पे निसार करता है

जान मुझ पे निसार करता है
प्यार वो बेशुमार करता है

सोचकर वो कभी मिलेंगें फिर
रोज दिल इंतज़ार करता है

रंक हो या यहाँ कोई राजा
वक़्त सब का शिकार करता है

पाँव में लग न जाये मेरे वो
दूर राहों से खार करता है

आज कल प्यार की नदी को वो
भूल कर भी न पार करता है

स्वप्न मेरे बिखर न जायें फिर
वो खिजाँ को बहार करता है

आज भी अर्चना की बातों पर
वो बड़ा ऐतबार करता है

डॉ अर्चना गुप्ता

6 Comments · 496 Views
You may also like:
गणपति स्वागत है
Dr. Sunita Singh
नया दौर है सँभल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
पिता
Keshi Gupta
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
जनता की आवाज़
Shekhar Chandra Mitra
बादल का रौद्र रूप
ओनिका सेतिया 'अनु '
शहीद रामचन्द्र विद्यार्थी
Jatashankar Prajapati
मेरे वतन मेरे चमन ,तुम पर हम कुर्बान है
gurudeenverma198
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वर्षा
विजय कुमार 'विजय'
उपदेश से तृप्त किया ।
Buddha Prakash
*नि:स्वार्थ विद्यालय सृजित जो कर गए उनको नमन (गीत)*
Ravi Prakash
भोले भंडारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ओ परदेसी तेरे गांव ने बुलाया,
अनूप अंबर
किसान पर दोहे
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
THANKS
Vikas Sharma'Shivaaya'
पैसा बहुत कुछ है लेकिन सब कुछ नहीं
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
गँउआ
श्रीहर्ष आचार्य
12
Dr Archana Gupta
तुम्हारी छवि
Rashmi Sanjay
वतन की बात
पाण्डेय चिदानन्द
अमावस के जैसा अंधेरा है इस दिल में,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
अल्फाज़
Dr.S.P. Gautam
साढ़े सोलह कदम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पूर्णाहुति
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बे अदब कहोगे।
Taj Mohammad
✍️धर्म के पानी का वो घड़ा✍️
'अशांत' शेखर
मैंने उस पल को
Dr fauzia Naseem shad
जुबां खामोश रहती है
Anamika Singh
Loading...