Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

जाने क्यों

रोज लिखते हैं
रोज खपते हैं
जाने क्यों हम
रोज मरते हैं।।

कल्पना लोक..!!
में मैं और तुम
उड़ते हैं दूर तक
पंख कटे पांखी से।।

उपदेशों की पोथियां
प्रकृति के उपमान..
सम्मान औ अपमान
तुला दंड पर बैठे जज
भीगी पलकें, तकती राह
दिलों से निकलती आह
बेबसी, लाचारी, चितवन
ऋत को ऋत न लिखने
की यूँ समझो सरगम…।।

असत्य है किंतु सत्य है
अमर्त्य है किंतु मृत्य है
दिन नहीं, रात में पूछना
रामंगम कितना कृत्य है।

आओ आँख पर पर्दा डालें
देखा, सुना सभी नकार दें
शिखंडी बन महाभारत में
ऋण सिंहासन के उतार दें।।

बात बुरी है, मानता हूँ विप्र
धृतराष्ट्र हैं सभी, यही फिक्र
बैठे हैं हम महाभारत लिखने
व्यास से उग्र और गणेश वक्र।।

सिकती रोटियां, तकती रोटियां
पेट से दूर, दूर बहुत दूर रोटियां
चाहो खाना मगर खा ना सको
सोना चाहो मगर सो न सको।।

कौरवों सी कौंधती आंखें
पांचाली जैसी रौंदती सांसें
बेबस, लाचार असहाय वीर
बोलो, लिख पाओगे यह पीर।

विरासत पर कब तक जियोगे
कुछ रचो अपनी भी महाभारत
अब न सारथी कृष्ण न अर्जुन
शब्द छलनी, कुंती दर्द आगत।।

सूर्यकान्त द्विवेदी

3 Likes · 58 Views
You may also like:
गर्मी
Ram Krishan Rastogi
# महकता बदन #
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जाने क्यों
सूर्यकांत द्विवेदी
दिवस नहीं मनाये जाते हैं...!!!
Kanchan Khanna
वह मुझे याद आती रही रात भर।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
"बीते दिनों से कुछ खास हुआ है"
Lohit Tamta
कैसी भी हो शराब।
Taj Mohammad
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
शक्ति राव मणि
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
#क्या_पता_मैं_शून्य_न_हो_जाऊं
D.k Math
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
फिक्र ना है किसी में।
Taj Mohammad
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️जमाना नहीं रहा...✍️
"अशांत" शेखर
** तेरा बेमिसाल हुस्न **
DESH RAJ
भारतीय संस्कृति के सेतु आदि शंकराचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🌺🌺Kill your sorrows with your willpower🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बहुत कुछ अनकहा-सा रह गया है (कविता संग्रह)
Ravi Prakash
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार "कर्ण"
"महेनत की रोटी"
Dr. Alpa H. Amin
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शुभ गगन-सम शांतिरूपी अंश हिंदुस्तान का
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कल जब हम तुमसे मिलेंगे
Saraswati Bajpai
भारत लोकतंत्र एक पर्याय
Rj Anand Prajapati
ऐ वतन!
Anamika Singh
आदर्श पिता
Sahil
हमारें रिश्ते का नाम।
Taj Mohammad
दर्द की कश्ती
DESH RAJ
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हरियाली और बंजर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Loading...