Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2022 · 1 min read

जागो राजू, जागो…

जागो राजू, जागो…
~~°~~°~~°

जागो राजू, जागो…
अब बहुत हो गया जागो…

क्यूँ कालखंड को नीरव करके ,
पूर्णविराम को आतुर हो।
एक तुम्हीं हो जो हँसा-हँसाकर ,
सारे ग़म को दूर भगाते हो ।
असमंजस में पड़ा काल है ,
उसके ऊपर भी त्रिकाल है।
आँखें खोलो, होश में आओ,
कर्तव्यपथ से कदापि न भागो।

जागो राजू, जागो…
अब बहुत हो गया जागो…

अवसादों में पड़कर मानव ,
पल-पल यूँ ही मरता है ।
अंदर ही अंदर घुटता मानव है,
जब रिश्ता जीवंत खो देता है।
बस तेरी हँसी के कायल हो के ,
रिश्ता नया यहाँ बनता है ।
अपनेपन का मोल तो समझो ,
अब अपने हठ को त्यागो।

जागो राजू, जागो…
अब बहुत हो गया जागो…

एक तुम्हीं हो जो ,
उलझनों के धागे हर पल सीधा रखते हो।
गाँठ न पड़ने देते कभी भी ,
जब हँसी के वाण चलाते हो।
अनायास ही बोझिल पलकें ,
तेरी झलक पाने को तरसतें है।
धैर्य की इस दारुण बेला में ,
अब आलस्यपन भी त्यागो ।

जागो राजू, जागो…
अब बहुत हो गया जागो…

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १५/०८/२०२२
भाद्रपद, कृष्ण पक्ष ,चतुर्थी ,सोमवार ।
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail.com

Language: Hindi
Tag: कविता
8 Likes · 4 Comments · 379 Views
You may also like:
मां का घर
Yogi B
हम आज भी हैं आपके.....
अश्क चिरैयाकोटी
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
अभिव्यक्ति की आजादी पर अंकुश
ओनिका सेतिया 'अनु '
मेरा बचपन
Alok Vaid Azad
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
अत्याचार
AMRESH KUMAR VERMA
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*जीवन सफल सरकार हो जाए (भक्ति गीतिका)*
Ravi Prakash
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जब तुम
shabina. Naaz
मदार चौक
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
वक्त बदलता रहता है
Anamika Singh
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
हिंदी दोहे बिषय-मंत्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ఎందుకు ఈ లోకం పరుగెడుతుంది.
विजय कुमार 'विजय'
✍️इश्तिराक
'अशांत' शेखर
"अच्छी आदत रोज की"
Dushyant Kumar
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
Corporate Mantra of Politics
AJAY AMITABH SUMAN
THANKS
Vikas Sharma'Shivaaya'
अग्निवीर
पाण्डेय चिदानन्द
*!* मेरे Idle मुन्शी प्रेमचंद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बदनाम होकर।
Taj Mohammad
मोटर गाड़ी खिलौना
Buddha Prakash
उसे चाहना
Nitu Sah
सुख़न का ख़ुदा
Shekhar Chandra Mitra
दिल यही चाहता है ए मेरे मौला
SHAMA PARVEEN
परशुराम कर्ण संवाद
Utsav Kumar Aarya
भूल जा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
Loading...