Oct 6, 2016 · 1 min read

जागेश्वर का जन्म दिन…:दोहे

गोलोकवासी श्रद्धेय कवि जागेश्वर बाजपेयी के जन्म दिवस पर उन्हें शत-शत नमन…

जागेश्वर का जन्म दिन, बांटे सबमें प्यार।
मन में झंकृत हो रहे, ज्यों वीणा के तार॥

कद छोटा दिल से बडे, सौम्य मधुर व्यवहार।
दिखे हाथ में साइकिल, ईश्वर का उपहार॥

भोला सरल स्वभाव था, रखते सबसे प्रीत।
कर्म-क्षेत्र में थे रमे, अन्तर लेते जीत्॥

जागेश्वर नें था दिया कवियों को सम्मान.
भूले बिसरे जो यहाँ, रखा सभी का ध्यान..

चाहे होता जन्मदिन या भौतिक अवसान.
चौखट पूजी आपने, करके उनका ध्यान..

छोटा कद सपनें बड़े, मधुर प्रेम व्यवहार.
कर्मयोग से आपके. स्वप्न हुए साकार.

यद्यपि हैं उस लोक में, किन्तु अमर है नाम।
श्री सुजान के पुत्र को, शत-शत नमन प्रणाम।

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

128 Views
You may also like:
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
हाइकु_रिश्ते
Manu Vashistha
श्री राम ने
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हे गुरू।
Anamika Singh
Touching The Hot Flames
Manisha Manjari
सच का सामना
Shyam Sundar Subramanian
यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हो, ऐसा विज्ञान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
यादें आती हैं
Krishan Singh
ग़ज़ल
kamal purohit
पितृ स्तुति
yadu.dushyant0
वो कली मासूम
सूर्यकांत द्विवेदी
हर साल क्यों जलाए जाते हैं उत्तराखंड के जंगल ?
Deepak Kohli
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
ग्रीष्म ऋतु भाग ४
Vishnu Prasad 'panchotiya'
प्रारब्ध प्रबल है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जिंदगी का मशवरा
Krishan Singh
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
क्या कोई मुझे भी बताएगा
Krishan Singh
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मनमीत मेरे
Dr.sima
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
Ravi Prakash
"साहिल"
Dr. Alpa H.
पुस्तकों की पीड़ा
Rakesh Pathak Kathara
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
मिटटी
Vikas Sharma'Shivaaya'
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
ग़ज़ल
Anis Shah
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Loading...