Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

जागीर

समझ जरा तासीर तेरी ।
जिस्म नहीं जागीर तेरी ।
ठहरा एक रात के वास्ते ।
जात है राहगीर तेरी ।
…विवेक दुबे”निश्चल”..

1 Like · 175 Views
You may also like:
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
💐साधकस्य निष्ठा एव कल्याणकर्त्री💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता है मेरे रगो के अंदर।
Taj Mohammad
ऐ दिल सब्र कर।
Taj Mohammad
*अग्रसेन जी धन्य (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
नीड़ फिर सजाना है
Saraswati Bajpai
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
*रामपुर के गुमनाम क्रांतिकारी*
Ravi Prakash
ऐ जाने वफ़ा मेरी हम तुझपे ही मरते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
नहीं, अब ऐसा नहीं होगा
gurudeenverma198
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️हे शहीद भगतसिंग...!✍️
'अशांत' शेखर
✍️पुरानी रसोई✍️
'अशांत' शेखर
पर्यावरण
Vijaykumar Gundal
अपना भारत देश महान है।
Taj Mohammad
हम ना सोते हैं।
Taj Mohammad
✍️कल के सुरज को ✍️
'अशांत' शेखर
शासन वही करता है
gurudeenverma198
बढ़ती आबादी
AMRESH KUMAR VERMA
शाश्वत सत्य की कलम से।
Manisha Manjari
*इस बार पार कर दो (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
फ़ालतू बात यही है
gurudeenverma198
ज़िंदगी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मुश्किलात
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
हवा
AMRESH KUMAR VERMA
✍️✍️शिद्दत✍️✍️
'अशांत' शेखर
हमारा दिल।
Taj Mohammad
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
Loading...